श्री बगलामुखी स्तोत्रं

Table of content


विनियोग - 
ॐ अस्य श्री बगलामुखी-स्तोत्रस्य भगवान नारद ऋषिः, बगलामुखी देवता, मम सन्निहितानामा
दुष्टानां विरोधिनाम वंग मुख- पद-जिव्हा बुद्धिना स्तंभनार्थे श्री बगलामुखी प्रसाद सिध्यर्थे पत्थे विनियोगः

कर - न्यास -
ॐ ह्लीं अंगुष्ठाभ्यं नमः.
ॐ बगलामुखी तर्जनीभ्यां नमः.
ॐ सर्व दुष्टानां मध्यमाभ्यां वषट्.
ॐ वाचां मुखं पदं स्तम्भय अनामिकाभ्यां हूं
ॐ जिव्हां कीलय कनिष्ठिकाभ्यां वौषट.
ॐ बुद्धिम विनाशय ह्लीं ॐ स्वः करतल कर पृष्ठाभ्यां नमः

हृदयादि-न्यास -
ॐ ह्लीं हृदयाय नमः
ॐ बगलामुखी सिरसे स्वाहा.
ॐ सर्व दुष्टानां शिखाये वषट.
ॐ वाचां मुखं स्तम्भय कवचाये हूं
ॐ जिव्हां कीलय नेत्र त्रयाये वौषट.
ॐ बुद्धिं विनाशय ह्लीं ॐ स्वः अस्त्राय फट्.

Comments