परिवार नियोजन का अर्थ, महत्व एवं पद्धतियां

In this page:


भारत विश्व में पहला देश है जिसने परिवार नियोजन कार्यक्रम को सरकारी स्तर पर अपनाया है भारत सन् 1951 से जनसंख्या को सीमित करने के लिए परिवार नियोजन कार्यक्रम चलाया जा रहा है। बढ़ती हु जनसंख्या और सीमित साधनों में नियन्त्रण स्थापित करने के लिए यह आवश्यक है कि जनसंख्या पर नियन्त्रण किया जाए। शाब्दिक रूप से परिवार नियोजन का अर्थ साधारण दो या तीन सन्तानों को जन्म देकर परिवार के आकार को नियोजित रूप से सीमित रखना समझा जाता है। परिवार नियोजन से तात्पर्य एक ऐसी योजना से है, जिसमें परिवार की आय, माता के स्वास्थ, बच्चों के समुचित पालन पोषण तथा शिक्षा को ध्यान में रखते हुए उपयुक्त समय पर और एक आदर्श संख्या में सन्तानों को जन्म दिया जाए।

भारत में परिवार नियोजन

जनसंख्या नियंत्रण और जन्म नियंत्रण में जरुर अन्तर है। जनसंख्या नियंत्रण तो आज का मुद्दा है पर जन्म नियंत्रण की प्रथा तो काफी प्राचीन समय से चलती आ रही है। आधुनिक विज्ञान ने हमें प्रजनन नियंत्रण के लिए बहुत से तरीके दिए हैं। अब लगभग सम्पूर्ण गर्भ निरोधन सम्भव है। बाँझपन के इलाज के लिए भी नए-नए वैज्ञानिक तरीके आ रहे हैं। परिवार नियोजन और जनसंख्या नियंत्रण कई दशकों से एक केंद्रीय राष्ट्रीय मुद्दा रहा है। परिवार नियोजन का अर्थ है कि परिवार छोटा रहे और बच्चों के बीच पर्याप्त अन्तर हो। राष्ट्रीय स्तर पर इसका असर जनसंख्या नियंत्रण का होता है। परिवार नियोजन लोग अपनी इच्छानुसार करते हैं पर जनसंख्या नियंत्रण योजनाकार की इच्छा पर निर्भर होता है। परिवार नियोजन या परिवार कल्याण कार्यक्रम एक राश्ट्रीय कार्यक्रम है,जो वर्श 1951 से चलाया जा रहा है। इस योजना का मुख्य उठ्ठेष्य देष की बढती हुई जनसंख्या पर अंकुश लगाना तथा जन्म दर ,मृत्यु दर एवं बाल मृत्यु दर पर नियत्रंण के साथ संक्रामक बीमारियों को नियंत्रित करना , सुरक्षित प्रयव , प्रतिरक्षीकरण सेवाओं , पोशण , दस्त नियत्रंण जैसे कार्यक्रम प्रभावी बनाने के लिए षिक्षा एवं प्रचार-प्रसार कार्यक्रमों को पूरे देष में चलाया जाना है। पहले इस कार्यक्रम का नाम परिवार नियोजन था,क्योंकि तब विभाग केवल जनसंख्या नियंत्रण की सेवा ही उपलब्ध करता था। किन्तु वर्श 1978 से इस कार्यक्रम को मातृ षिषु कल्याण कार्यक्रम से जोड दिया गया जिससे विवाह की सही उम्र से लेकर गर्भावस्था में देखभाल ,सुरक्षित प्रसव ,मॉ तथा बच्चे की देखभाल , बच्चो की जानलेवा बीमारियों से सुरक्षा हेतु टीके लगाने के कार्यक्रम के साथ - साथ जनसंख्या नियंत्रण की सेवायें उपलब्ध कराकर परिवार नियोजन कार्यक्रम का नाम बदलकर परिवार कल्याण कार्यक्रम कर दिया गया था।

परिवार कल्याण कार्यक्रम के नीतिगत लक्ष्यों का मुख्य उद्देश्य जनसंख्या की एक ऐसी सीमा तक पहुँचना है, जो पर्यावरण के साथ-साथ भावी पीढियों के संसाधन आधार को बिना संकटकग्रस्त किए ही जीवन की अत्युत्तम गुणवत्ता को स्वीकृति प्रदान करता हो।

भारत की बढ़ती हुई जनसंख्या की वृद्धि दर को कम करने का एक महत्वपूर्ण उपाय परिवार नियोजन है। परिवार नियोजन का अर्थ है कि परिवार को एक सीमा तक ही बढाया जाए ताकि परिवार की आमदनी का ध्यान रखते हुए जीवन स्तर को ऊँचा किया जाए या कम से कम नीचा होने से तो अवश्य रोका जाए। सार रूप में कहा जाए तो, ‘‘परिवार को जान बूझकर अपनी इच्छानुसार सीमित करना, उचित समय के बाद सन्तान पैदा करना ही परिवार नियोजन है। ‘‘इसके लिए कई उपाय काम में लाए जा सकते है: जैसे-(1) गर्भ निरोधक साधन (2) दवाइयां (3) आपरेशन (4) लूप (5) इंजेक्शन आदि।

अन्य शब्दों में कहे तो परिवार नियोजन वह है जिसमें एक परिवार में एक या दो बच्चे होने चाहिए तथा इन बच्चों के जन्म में तीन साल का अन्तर होना चाहिए। दो बच्चों के बाद माता या पिता को अपना आपरेशन करा लेना चाहिए। अब सरकार ने इस कार्यक्रम का और विस्तार कर इसका नाम परिवार कल्याण कर दिया है।

परिवार नियोजन के लाभ

परिवार नियोजन का लाभ उस अपनाने वाले परिवार के साथ ही देश और समाज को है इसको हम निम्न रूप में देख सकते है।
  1. बच्चो को लाभ- परिवार नियोजन का बच्चों पर अनुकूल प्रभाव पड.ता है। कम बच्चे होने को कारण उनकी पढाई तथा पालन-पोषण अच्छे ढंग से किया जा सकेगा। उनके शिक्षा स्वास्थ्य पर हम अच्छा विकास कर सकेगें। जो आगे चलकर देश के अच्छे नागरिक बन सकेगे।
  2. माता-पिता को लाभ- परिवार नियोजन का माता-पिता के स्वास्थ्य पर अच्छा प्रभाव पडता है। वे अपने परिवार का जीवन स्तर ऊँचा रख सकते है। माताओं को अच्छा स्वास्थ्य,अधिक लम्बी आयु और अधिक सुखीजीवन तथा बच्चों की अधिक देखभाल और पालन-पोषण एवं शिक्षण के लिए परिवार नियोजन आवश्यक है।
  3. समाज को लाभ- परिवार नियोजन व्यक्ति और समाज दोनों के लिए महत्वपूर्ण है। क्योंकि कम बच्चो पर व्यक्ति उनका अच्छे से पालन-पोषण कर सकेगा जो आगे अच्छे नागरिक बनेगा जिसके कारण समाज उन्नत बन सकेगा तथा समाज का स्तर ऊपर उठेगा।
  4. राष्ट्र को लाभ- परिवार नियोजन को प्रभावी रूप में लागू करने पर ही देश का आर्थिक रूप से तीव्र विकास संभव है। गरीबी, बेरोजगारी और आर्थिक असमानता को कम किया जा सकता है।

परिवार नियोजन और परिवार कल्याण का महत्त्व

परिवार नियोजन को अब बेहतर जीवन स्तर हेतु मौलिक मानवीय हक माना जाता है। जन्मों में प्रर्याप्त अन्तर होना बेहतर पारिवारिक स्वास्थ के लिए महत्त्वपूर्ण और महिलाओं के लिए अधिक स्वतंत्र और समान अधिकारो की प्राप्ति हेतु सहायक होता है। यदि महिलाओं को परिवार नियोजन अपनाने हेतु स्वतन्त्रता दी जाए तो अधिकांश महिलाएं सिर्फ दो या तीन बच्चों को ही जन्म देना स्वीकार करेगी।
  1. सिर्फ दो बच्चो के पर्याप्त अन्तर से जन्म लेने की वजह से माता का स्वास्थ अच्छा रहता है। वह परिवार की देखभाल अच्छी तरह से करती है।
  2. माताओ और शिशुओं के स्वास्थ सम्बन्धी खतरे बहुत कम हो जाते है।
  3. छोटा परिवार स्वास्थ, सुखी और सतुंष्ट रहता है।
  4. अच्छी शिक्षा की वजह से दम्पत्ति स्वतन्त्रता पूर्वक परिवार नियोजन कर सकते हैं।
  5. माताओ की आयु 20 वर्ष से अधिक होने से शिशु जन्म के समय किसी का खतरा नहीं रहता है।
  6. सिर्फ दो बच्चे होने की वजह से पालक उनकी अच्छी देखभाल कर सकता है। उनके आहार, कपड़े, शिक्षा का व्यय आसानी से वहन कर सकते है। बच्चे बड़े होने पर अक्सर अच्छे उपयोगी नागरिक बनते है।
  7. छोटे परिवार में पैसा बढ़ता है और स्तर में सुधार होता है।
  8. माता के पास अपनी शिक्षा तथा कार्य में सुधार हेतु पर्याप्त समय रहता है और रूचि बनी रहती है। उसका सामाजिक दर्जा भी बेहतर रहता है।

परिवार नियोजन की पद्धतियां

अस्थायी पद्वतियां-

अस्थायी पद्वतियाँ का यह लाभ है कि आवश्यकतानुसार उनको सरलतापूर्वक बन्द किया जा सकता है। इनका मुख्य लक्ष्य जन्म में अन्तर बढ़ाना है।

यान्त्रिक गर्भ निरोध-(क) आय.यू.डी (IUD) (ख) डायफ्राम, (Diaphragm) (ग) कन्डोम या निरोध
  1. अन्त: गर्भाशयीन साधन (IUD)- महिलाओं में यह पद्वति काफी लोकप्रिय है। यह पालिथिलिन का बना दुहरे आकार का साधन होता है जिसे ‘लिपीज-लूप’ कहा जाता है जबकि कि कापर-T(copper 'T') कापर और पोलिथिलिन की बनी होती है कापर ‘T’ आसानी से प्रवेशित की जा सकती है और उससे रक्तश्राव भी कम होताऔर से बेहतर कही जा सकती है। I.U.D. के द्वारा, निषेचित ओवम की अपने आपको गर्भाशय की दीवार से जुड़ने की क्रिया की रोकथाम की जाती है।
  2. डायफ्राम(Diaphragm)- यह रबर का गुम्बदाकार साधन होता है जिसे महिला सम्भोग पूर्व सरविक्स को ढँकने और शुक्राणुओं के गर्भाशय में प्रवेश की रोकथाम करने के हेतु, अपने आप योनि में प्रवेशित करती है चिकित्सक या नर्स द्वारा निदान गृहों में महिलाओं को इसे प्रवेशित करने की शिक्षा दी जाती है।
  3. कन्डोम (निरोध)- इस निरोधक पद्वति का प्रयोग पुरूषों द्वारा किया जाता है। यह महीन रबर का बना पुरूष जननांग को ढ़कने वाला एक साधन होता है। इसे संभोग पूर्व सीधे लिंग पर चढ़ाकर पहना जाता है।

हॉरमोनल पद्धति-

  1. मुख से ली जाने वाली निरोधक गोलियां जो महिलाओं द्वारा प्रयोग में लायी जाती है।
  2. ऐसी गोलियॉ जो पुरूषों में शुक्राणुओ के उत्पादन की रोकथाम करती है इस पर शोध कार्य किये जा रहे है।
  3. डेपो प्रोवेरो के इंजेक्शन और अन्य औषधियाँ। ये अभी भारत में अधिक प्रयोग में नहीं ला जाती है।

प्राकृतिक पद्धतियाँ-

  1. रिदम या सुरक्षित अवधि पद्धति:- दिनों की गणना पर आधारित, रजोधर्म को उवर्रक अवधि में सम्भोग न करना यह लक्ष्य होता है।
  2. ओव्यूलेशन पद्धति:- यह पद्धति रिदम पद्धति से अधिक सही होती है। महिलाओं को यह शिक्षा दी जाती है कि डिम्बक्षरण के समय उनमें होने वाले परिवर्तनों को ध्यान रखें जो कि उर्वरक अवधि होती है। सरवाइकल श्लेष्मा के इस अवधि में परिक्षण से यह पतालगता है कि वह अधिक फिसलनयुक्त रहता है जब कि अन्य अवधि में यह एक पेस्ट की तरह चिपचिपा होता है। योनि का तापक्रम डिम्बक्षरण अवधि से सामान्य से अधिक होता है।
  3. सम्भोग अन्तर्बाधा :- इस अवधि में वीर्य स्खलित होने के पूर्व ही पुरूष अपने शिशन को बाहर निकाल लेता है।

स्थायी विधियाँ-

  1. महिला नसबन्दी:- यह शल्यक्रिया महिलाओं के लिए होती है। आधुनिक तकनीक के प्रयोग द्वारा जिसमें ‘लेप्रोस्कोपी’ सम्मिलित है, यह अत्यन्त सरल और सुरक्षित होगयी है। यह एक छोटी शल्यक्रिया है, जिसमें फेलापिन ट्यूब के दोनों तरफ का छोटा भाग निकाला जाता है। उदर में सिर्फ 2 से.मी. लम्बा चीरा लगाता है। जिसे एक एक टाँके द्वारा बन्द किया जाता है। इसके लिए सर्वोत्तम समय प्रसब पश्चात् 7 दिन की अवधि में होता है। लेकिन यह किसी भी समय की जा सकती है।
  2. पुरूष नसबन्दी:- यह पुरूष की सरल और सुरक्षित शल्यक्रिया होती है। जिसमें शुक्रवाह के दोनों तरफ का छोटा टुकड़ा निकाल दिया जाता है। एक छोटा सा चीरा स्कोटम में देने की आवश्यकता होती है। इसमें सिर्फ 10 मिनट का समय लगता है और पुरूष उसी दिन घर जा सकता है।

Comments