सामाजिक लागत-लाभ विश्लेषण का अर्थ

By Bandey No comments
अनुक्रम
सामाजिक दृष्टिकोण से परियोजनाओं (Projects) के मूल्यांकन के लिये
लागत-लाभ विश्लेषण सबसे उपयुक्त तथा सर्वमान्य तरीका है। यह विश्लेषण
परियोजना मूल्यांकन के लिये सर्वाधिक वैज्ञानिक एवं उपयोगी कसौटी भी
है। यह योजना प्राधिकरण के लिये इस बात में सहायक है कि वह
परियोजनाओं के लाभों और लागतों के वर्तमान मूल्यों के बीच के अन्तर को
अधिकतम सके अनुकूलतम साधन आबंटन (Optimum Resource Allocation)
उपलब्ध करने के लिए सही निवेश निर्णय कर सके। इसमें लाभों तथा
लागतों के परिगणन, तुलना एवं मूल्यांकन शामिल हैं। इसका अभिप्राय है कि
परियोजना में शामिल होने वाली लागतों के मुकाबले प्रतिफलों का मूल्यांकन
करना।

वास्तव में, लागत-लाभ विश्लेषण का अर्थ किसी एक नीति के
सामाजिक लाभों तथा अलाभों को एक सामान्य मुद्रा इकार्इ में परिमाशित
तथा वर्णित करना है।

Leave a Reply