कोरियर क्या है?

By Bandey 1 comment
अनुक्रम
यदि आपने पत्र तुरंत एवं शीघ्रता से भेजना है और उस दिन सार्वजनिक अवकाश
है, तब आप क्या करेंगें? डाक घर बंद है और आप इसे आज ही भेजना चाहते हैं जिससे
कि कल तक यह पत्र अपने गंतव्य स्थान तक पहुंच जाए। ऐसी स्थिति में आप कोरियर की
सेवाएं ले सकते हैं जो आपके पत्र को उसी दिन रवाना करने की सुनिश्चितता देगा और
पत्र प्राप्तकर्ता केा कम से कम समय में प्राप्त हो जाएगा। पत्र,कागजात, पैकेट, पार्सल,
इत्यादि को भेजने वाले से लेना तथा देश विदेश में प्राप्तकर्ताओं तक इन्हें पहुँंचाना कोरियर
सेवा का कार्य है।

आप जानते हैं कि डाकघर भी पत्रों, पैकेटों एवं पार्सलों को प्राप्त करते
हैं तथा पाने वालों के पास दु्रत सेवा से भेजते हैं। लोग अपनी सुविधानुसार डाकघर अथवा
कोरियर सेवा चुन सकतें हैं। डाकघर के समान कोरियर भी बहुमुल्य सेवा प्रदान करते हैं,
और वस्तुओं को समय पर एवं शीघ्रता से पहुँचाना सुनिश्चित करते हैं। इस प्रकार कोरियर
को डाक सेवाबों का पूरक कहा जा सकता है। ?

कोरियर के कार्य

कोरियर विभिन्न प्रकार से जनता को सेवा प्रदान करते है –

  1. अपनी सेवाओं के प्रयोगकत्र्ताओं से अतिरिक्त शुल्क लिए बिना पत्र, पैकेट,
    पार्सल, इत्यादि एकत्रित करते हैं। 
  2. विभिन्न एकत्रित केन्द्रो से भेजने के लिए वस्तुएं एकत्रित करतें हैं।
  3. संदेश वाहकों एवं यातायात के अन्य साधनों, रेलवें, रोडवेज, वायु यातायात,
    इत्यादि, के माध्यम से वस्तुओं कों शीघ्रता सें भेजते हैं। 
  4. देश विदेशों में विभिन्न स्थानों को वस्तुएं भेजने का प्रबंध करते हैं । 
  5. रसीद लेकर प्राप्तकर्ताओं को वस्तुओं की सुपुर्दगी देते हैं। 
  6. भेजने वाले को सुपुर्दगी का प्रमाण (प्राप्तकर्ता से प्राप्त रसीद) भेजते है।

पैकर्स एवं मूवर्स के कार्य

  1. माल का परिबंधन (पैकिंग): पैकर्स एवं मूवर्स माल को उसके आकार,
    परिमाण एवं प्रकृति के अनुसार पैक करते हैं। इसके लिए वह रैपर अथवा कन्टेनर का
    प्रयोग करते है। पैकिंग के लिए वह कपड़ा, प्लास्टिक की शाीट, डिब्बे, बाक्स, बोरियां,
    के्रट, आदि का प्रयोग करते हैं। 
  2. माल का परिवहन: सामान को गन्तव्य स्थान पर पहुँचाने का दायित्व पैकर्स
    एवं मुवर्स है। वे सामान को सड़क अथवा रेंल परिवहन से भेजते हैं। कुछ के पास अपनी
    स्वंयं की परिवहन व्यवस्था हैं। 
  3. जोखिम उठाना : पैकर्स एवं मूवर्स सामान को ढोने में हानेवाले जाेि खम को
    वहन करते हैं। यह हानि माल को ले जाने पर मार्ग मे उसके क्षति ग्रस्त हो जाने रअथवा
    नष्ट हाके जाने पर हो सकती हैं अथवा माल के पैंकिग अथवा उसे खेलने समय हो सकती
    हैं। इसलिए वह पूरा ध्यान रखते हैं। पैंकिंग के लिए रसर्वोत्तम गुणवत्ता का सामान
    प्रयोग करते हैं तथा अपने उददेश्य की पूर्ति के लिए प्रशिक्षित तथा अनुभवी कर्मचारियों
    की नियुक्ति करतें हैं । 
  4. माल का बीमा कराना : मार्ग में हानि के जोखिम से बचने के लिए मूवर्स एवं पैकर्स दूर स्थानोा को मूल्यवान सामान भेजने पर उसका बीमा करा लेते हैं। 
  5. माल को खोलना : गन्तव्य स्थान पर पहुँच जाने पर वह माल की पैंकिग
    को खोंलते हैं । प्रत्येक माल का मिलना एवं जांच करते हैं तथा उन्हें उचित स्थान पर
    रखते हैं।

1 Comment

Anonymous

Aug 8, 2018, 4:25 pm Reply

Thanx

Leave a Reply