गौतम बुद्ध का जीवन परिचय, उपदेश और चार आर्य सत्य

गौतम बुद्ध की वास्तविक जन्म तिथि वाद-विवाद का विषय है परन्तु अधिकतर विद्वानों द्वारा इसको लगभग 566 बी.सी.ई. माना गया है। गौतम बुद्ध के माता-पिता ने उनका नाम सिद्धार्थ रखा था। गौतम बुद्ध के बचपन का नाम सिद्धार्थ था। और उनके पिता शुद्धोधन शाक्य गण के मुखिया थे तथा उनकी माँ का नाम माया था जो कोलिया गण की राजकुमारी थीं। उनका जन्म नेपाल की तराई में स्थित लुम्बिनी (आधुनिक रुमिन्डै) नामक स्थान पर हुआ था। यह जन्म नेपाल की तराई में स्थित लुम्बिनी में हुआ था जो कपिलवस्तु से लगभग 14 मील की दूरी पर है। यहीं पर सम्राट अशोक ने एक स्तम्भ स्थापित करवाया था जिस पर आज भी ‘हिद बुझे जाते साक्यगुनिति हिद भगवा जातेति’ (यहां शाक्य मुनि बुद्ध उत्पन्न हुए थे यहां भगवान उत्पन्न हुए थे) पढा जा सकता है। जन्म के 7वें दिन इनकी माता का निधन हो गया एवं इनका पालन पोषण सौतेली मां गौतमी ने किया। यह जानकारी हमें अशोक के एक स्तम्भ लेख के द्वारा मिलती है। 

16 वर्ष की आयु में सिद्धार्थ का विवाह यशोधरा (इनके अन्य नाम गोपा, बिंना तथा भद्रकच्छा भी उल्लिखित है) से कर दिया। इनसे एक पुत्र उत्पन्न हुआ। किन्तु सिद्धार्थ प्रसन्न न हुए वरन् उसे मोह-बंधन मानकर ‘राहू’ कहा और उसका नाम राहुल रख दिया। 

उन्होंने सांसरिक दु:खों से निवृति का मार्ग खोजने के लिए अपनी पत्नी तथा शिशु का सोते हुए ही छोड़ कर 29 वर्ष की अवस्था में गृहत्याग कर दिया इस घटना को बौद्ध साहित्य में महाभिनिष्कमण कहा जाता है।

इन्होंने 29 वर्ष की अवस्था में गृह-त्याग किया और 35 वर्ष की उम्र में कठोर तपस्या के बाद ‘गया’ में, पीपल के वृक्ष के नीचे, निरंजना नदी के तट पर, वैषाख पूर्णिमा के दिन ध्यान लगाया। आठ दिन की समाधि के उपरान्त 35 वर्ष की आयु में वैसाखी मास की पूर्णिमा की रात्रि को उन्हें सच्चे ज्ञान की प्राप्ति हुई। इससे वे बौद्ध (ज्ञानी) अर्थात बुद्ध कहलाए तथा गया ‘बौद्ध गया’ के रूप में विख्यात हो गया। ज्ञान-प्राप्ति के बाद उन्होंने पहला उपदेश ऋषिपतन (सारनाथ) में पांच शिष्यों को दिया जो ‘धर्म-चक्र परिवर्तन’ के नाम से जाना जाता है। यहीं पर प्रथम बुद्ध संघ की स्थापना हुई। 

सारनाथ के बाद वे मगध गए जहां के शासक बिम्बिसार ने बौद्ध धर्म स्वीकार कर लिया। अजातशत्रु, कौशल नरेश प्रसेनचित, धनी व्यापारी अनाथपिड़क इत्यादि के अतिरिक्त बुद्धे पिता, मौसी, पत्नी व पुत्र ने भी इस धर्म को स्वीकार कर लिया। 40 वर्ष तक विभिन्न क्षेत्रों में प्रचार करते हुए, कुशीनगर में 80 वर्ष की अवस्था में उन्हें निर्वाण प्राप्त हुआ।

कुशीनगर (उत्तर प्रदेश के देवरिया जिले में स्थित कसिया) में 80 वर्ष की आयु में (486 बी.सी.ई.) गौतम बुद्ध की मृत्यु हो गई। 

गौतम बुद्ध के उपदेश और चार आर्य सत्य

ज्ञान प्राप्ति के पश्चात गौतम बुद्ध ने अपने मत के प्रचार का निश्चय किया। उन्होंने सर्वप्रथम सारनाथ में पाँच ब्राह्मण सन्यासियों को अपना पहला उपदेश दिया। ये वही सन्यासी थे जो कि कठोर साधना से विरत हो जाने के कारण गौतम का साथ छोड़ चुके थे। इस उपदेश को धर्म चक्र प्रवर्तन कहा गया। यह उपदेष दुःख, दुःख के कारणों तथा उनके समाधान से संबंधित था। इसे चार आर्य सत्य (चतारि आरिय सच्चानि) कहा जाता है। अपने ज्ञान प्राप्ति के चरण में गौतम बुद्ध को ‘प्रतीत्यसमुत्पाद’ के सिद्धान्त का बोध हुआ था, जिसका तात्पर्य इस तथ्य से है कि संसार की सभी वस्तुयें किसी न किसी कारण से उत्पन्न हुई है और इस प्रकार वे इस पर निर्भर हैं। गौतम बुद्ध के चार आर्य सत्य निम्न हैं-
  1. संसार दुःखों से परिपूर्ण है।
  2. सारे दुःखों का कोई न कोई कारण है। इच्छा, अज्ञान और मोह मुख्यतः दुःख के कारण हैं।
  3. इच्छाओं का अन्त मुक्ति का मार्ग है।
  4. मुक्ति (दुःखों से छुटकारा पाना) अष्टांगिक मार्ग द्वारा प्राप्त की जा सकती है।
ख) अष्टांगिक मार्ग में निम्नलिखित सिद्धांत समाहित हैं:
  1. सम्यक् दृष्टि: इसका अर्थ है कि इच्छा के कारण ही इस संसार में दुःख व्याप्त है। इच्छा का परित्याग ही मुक्ति का मार्ग है।
  2. सम्यक् संकल्प: यह लिप्सा और विलासिता से छुटकारा दिलाता है। इसका उद्देश्य मानवता का े प्रेम करना और दूसरों को प्रसन्न रखना है।
  3. सम्यक् वाचन: अर्थात् सदैव सच बोलना।
  4. सम्यक् कर्म: इसका तात्पर्य है स्वार्थरहित कार्य करना।
  5. सम्यक् जीविका: अर्थात् व्यक्ति को ईमानदारी से अर्जित साधनों द्वारा जीवन-यापन करना चाहिए।
  6. सम्यक् प्रयास: इससे तात्पर्य है कि किसी को भी बुरे विचारों से छुटकारा पाने के लिए इन्द्रियों पर नियंत्रण होना चाहिए। कोई भी मानसिक अभ्यास के द्वारा अपनी इच्छाओं एवं मोह को नष्ट कर सकता है।
  7. सम्यक् स्मृति: इसका अर्थ है कि शरीर नश्वर है और सत्य का ध्यान करने से ही सांसारिक बुराइयां े से छुटकारा पाया जा सकता है।
  8. सम्यक् समाधि: इसका अनुसरण करने से शान्ति प्राप्त होगी। ध्यान से ही वास्तविक सत्य प्राप्त किया जा सकता है।
बौद्ध मत ने कर्म के सिद्धान्त पर बल दिया, जिसके अनुसार वर्तमान का निर्णय भूतकाल के कार्य करते हैं। किसी व्यक्ति की इस जीवन और अगले जीवन की दशा उसके कर्मों पर निर्भर करती है।

प्रत्येक व्यक्ति स्वयं अपने भाग्य का निर्माता है। अपने कर्मों को भोगने के लिए हम बारबार जन्म लेते हैं। अगर कोई व्यक्ति किसी भी तरह का पाप नहीं करता है तो उसका पुनर्जन्म नहीं होगा। इस प्रकार बुद्ध के उपदेशों का अनिवार्य तत्व या सार ‘‘कर्म-दर्शन’’ है।

बुद्ध ने निर्वाण का प्रचार किया। उनके अनुसार यही प्रत्येक व्यक्ति के जीवन का अंतिम उद्देश्य है। इसका तात्पर्य ह ै सभी इच्छाओं से छुटकारा, दुःखों का अन्त जिससे अन्ततः पुनर्जन्म से मुक्ति मिलती है। इच्छाओं की समाप्ति की प्रक्रिया के द्वारा कोई भी निर्वाण पा सकता है। इसलिए बुद्ध ने उपदेश दिया कि इच्छा ही वास्तविक समस्या है। पूजा और बलि इच्छा को समाप्त नहीं कर सकेंगे। इस प्रकार वैदिक धर्म में हाने े वाले अनुष्ठानों एवं यज्ञों
के विपरीत बुद्ध ने व्यक्तिगत नैतिकता पर बल दिया। 

बुद्ध ने न ईश्वर के अस्तित्व को स्वीकारा और न ही नकारा। यह व्यक्ति और उसके कार्यों के विषय में अधिक चिन्तित थे। बौद्ध मत ने आत्मा के अस्तित्व को भी स्वीकार नहीं किया। 

इनके अतिरिक्त बुद्ध ने अन्य पक्षों पर भी बल दिया: 
  • बुद्ध ने प्रेम की भावना पर बल दिया। अहिंसा का अनुसरण करके प्रेम को सभी प्राणियों पर अभिव्यक्त किया जा सकता है। यद्यपि अहिंसा के सिद्धांत को बौद्ध मत में अच्छी तरह से समझाया गया था, परन्तु इसको इतना महत्व नहीं दिया गया जितना कि जैन मत में।
  • व्यक्ति को मध्य मार्ग का अनुसरण करना चाहिए। कठोर संन्यास एवं विलासी जीवन दोनों से बचना चाहिए।
बौद्ध धर्म का थोड े़ ही समय में एक संगठित धर्म के रूप में उद्भव हुआ और बुद्ध के उपदेशों को संग्रहीत किया गया। बौद्ध धर्म के इस सगं ्रहीत साहित्य (उपदेशों का संग्रह-पिटक) को तीन भागों  में बांटा  गया है:
  1. सुत्त-पिटक में पांच निकाय हैं जिनमें धार्मिक सम्भाषण तथा बुद्ध के संवाद संकलित हैं। पांचवें निकाय में जातक कथायें (बुद्ध के पूर्व जन्मों से सम्बद्ध कहानियाँ) हैं।
  2. विनय पिटक में भिक्षुओं के अनुशासन से संबंधित नियम हैं।' 
  3. अभिधम्म-पिटक में बुद्ध के दार्शनिक विचारों का विवरण है। 

बौद्ध धार्मिक ग्रंथ

गौतम बुद्ध के धार्मिक विचारों को विद्वानों, दार्षनिकों, विचारकों आदि ने लिपिबद्ध कर ग्रंथों में लिखा। बौद्ध साहित्य में निम्नलिखित धार्मिक ग्रंथ प्रमुख है -

1. त्रिपिटक:- बौद्ध धार्मिक ग्रंथों को त्रिपिटक कहते है, पिटक से तात्पर्य टोकनी या समूह से है। ये निम्न
है - (1) सुत्त पिटक:- इनमें बुद्ध के उपदेष है। इनमें पाँच निकाय है - दीर्घ निकाय, मज्झिम निकाय, संयुत्त निकाय, अंगुत्तर निकाय, खुद्दक निकाय। प्रत्येक निकाय में सूत्र ग्रंथ हैं।

(2) विनय पिटक:- इसके 3 भाग है - (अ) सूत्तविभंग (ब) खन्धक (3) परिवार

(3) अभिधम्य पिटक:- यह पिटक बौद्ध धर्म के दार्शनिक विचारों से संबंधित है।

Bandey

मैं एक सामाजिक कार्यकर्ता (MSW Passout 2014 MGCGVV University) चित्रकूट, भारत से ब्लॉगर हूं।

Post a Comment

Previous Post Next Post