चोरी बीमा क्या है?

By Bandey No comments
अनुक्रम
चोरी बीमा (Burglary or Theft Insurance) :- चोरी बीमा में प्राय: चार प्रकार की जोखिम : (1) निवास स्थान (Residence), (2) व्यापारिक (Commercial), (3) वित्तीय (Financial) और (4) विविध (Miscellaneous) शामिल हैं। इसके अलावा निवास स्थान के बाहर और अन्दर चोरी बीमा, सीमित चोरी बीमा, नकद और प्रतिभूति चोरी बीमा, व्यापारिक स्कन्ध चोरी बीमा, स्टास्कीपर चोरी बीमा, कार्यालय चोरी बीमा, बैंक चोरी बीमा, सुरक्षित जमा (Safe Deposit) चोरी बीमा, गोदाम चोरी बीमा आदि कई प्रकार के चोरी बीमा होते हैं। चोरी बीमा: (1) घोषणा, (2) बीमित समझौता, (3) अतिरिक्त या निषेध (Exclusion) और (4) शर्तों के अन्दर किया गया है।

घोषणा –

बीमापत्र के प्रथम पृश्ठ पर बीमाकर्ता के नाम और उसके बाद बीमित व्यक्ति का नाम और पता, व्यवसाय आदि लिखा रहता है। बीमा की रकम और प्रव्याजि की रकम भी लिखी रहती है। चोरी से सुरक्षा के उपाय अपनाये गये हैं या नहीं, चौकीदार रहता है या नहीं या अन्य ऐसी बातेंजो चोरी की जोखिम को कम करते हों। इन सबके द्वारा प्रव्याजि की दरों में कमी होती है। पिछले समय की हानि, प्रस्ताव की अस्वीकृति या बीमा क्षतिपूर्ति की अस्वीकृति आदि लिखी रहती है। इसमें बीमा की अवधि 5 वर्ष से अधिक नहीं होती है।

बीमा समझौता –

बीमा समझौता में यह लिखा रहता है कि बीमाकर्ता एक निश्चित प्रव्याजि के बदले, घोषणा या दी गयी सूचना पर विश्वास करके इसके दायित्व की सीमा के अन्दर निषेध या अतिरिक्त (Exclusion) को छोड़कर शर्तों और बीमापत्र की अवधि के अन्तर्गत बीमित जोखिम होने पर बीमित व्यक्ति को एक निश्चित हानि की क्षतिपूर्ति करेगा। इसमें भी यह लिखारहता है कि कौन-सी जोखिम बीमित है।

बीमा एक या अधिक जोखिम को शामिल कर सकता है और उसी के अनुसार
भुगतान भी होगा। निषेध या अतिरिक्त तथा शर्तों के अनुसार ही भुगतान किया
जाता है।

निषेध या अतिरिक्त –

निषेध वाक्य का लिखा जाना इसलिये आवश्यक है कि किसकी वस्तु का दो जगह
से भुगतान न हो सके और इस प्रकार उसे क्षतिपूर्ति की रकम से अधिक न मिल
सके।

इनके अलावा बहुत-सी अन्य शर्तों को भी बताया जा सकता है जिससे दोनों पक्षों
(बीमाकर्ता और बीमित व्यक्ति) के प्रसंविदा को संचालित किया जा सके।

चोरी बीमा के प्रकार

चोरी (कारबार परिसर) प्रसंविदा –

व्यापारिक गृहो (कारबार परिसर) से सम्बन्धित चोरी बीमा पॉलिसी के
अन्तगर्त मुख्यत: इन सम्पत्तियों की चोरी की जोखिमो को संवृत किया जाता है-(1)
बीमादार का व्यापारिक माल, (2) कमीशन या न्यास (Trust) पर रखा हुआ माल,
जिसके प्रति बीमादार की जिम्मेदारी हो, (3) व्यापारिक साज-सज्जा, कार्यालय की
मशीनें जैसे टाइपराइटर, कैलकुलेटर, इसी प्रकार के अन्य व्यावसायिक उपकरण,
तथा (4) तालाबन्द तिजोरी या सेफ में रखा हुआ नकद रूपया और अन्य बहुमूल्य
वस्तुएं। इस पॉलिसी में उपर्युक्त सभी वस्तुओं के मूल्य यथासम्भव बीमा पॉलिसी में
अलग-अलग इंगित किये जाते हैं। इन बीमित वस्तुओं की चोरी होने पर बीमा
कम्पनी क्षतिपूर्ति करने को बाध्य होगी। इसके अतिरिक्त यदि चोरी के सिलसिले में
उस मकान की भी क्षति हो जहां बीमित सम्पत्ति रखी गई थी और उसकी मरम्मत
की जिम्मेदारी बीमादार पर आती हो तब इसकी भी क्षतिपूर्ति की जाती है।

चोरी (निजी आवास) पॉलिसी –

निजी आवासगृहों के लिए कम्पनियां पृथक् बीमा पॉलिसी जारी करती है। इस
पॉलिसी के अन्तर्गत बीमादार या उसके परिवार के सदस्यों के फर्नीचर, सभी प्रकार
के निजी सामान, गहने, जवाहरात तथा गृहस्थी की अन्य वस्तुओं की चोरी की
जाो खिमो काे संवृत किया जाता है। सामान्यतया गहने तथा अन्य मूल्यवान वस्तुओं
का बीमा कुल बीमित मूल्य के एक-तिहाई से अधिक नहीं किया जाता जब तक
इसके लिए अतिरिक्त प्रीमियम न दिया जाए। यह बीमा पॉलिसी प्राय: मूल्यांकित
पॉलिसी (Valued Policy) होती है। पॉलिसी की शर्तों के अनुसार बीमित वस्तुएं
आवासगृह पर मौजूद रहनी चाहिए तथा वर्ष भर मे 60 दिनों से अधिक के लिए
आवासगृह खानी नहीं रहना चाहिए। बीमा पॉलिसी में प्राय: यह शर्त भी रहती है कि
मकान या परिसर (जिसकी सम्पत्ति का बीमा हुआ है) निरन्तर किसी जिम्मेदार
व्यक्ति की देख-रेख में रहेगा अथवा एक चौकीदार उसका पहरेदार होगा। बीमा
कम्पनी वास्तुकला की वस्तुओं, पाडं ुलिपियो, बिल, प्रोनोट, दस्तावजे आदि की चोरी
के जोखिमों के प्रति दायित्व नहीं ग्रहण करती।

सम्मिलित अग्नि एवं चोरी की प्रसंविदा –

यह पॉलिसी आवासगृहो के बीमे में बहुत प्रचलित है। इस पॉलिसी में वे सभी
जोखिम संवृत की जाती है जिनका उल्लेख हमने ‘‘निजी आवास चोरी पॉलिसी’’ के
सिलसिले में किया है और इसके अतिरिक्त इसमें बीमित सम्पत्ति का अग्नि बीमा
भी हो जाता है जिसके फलस्वरूप बीमा कम्पनी अग्नि, विद्युत्पात या गृहस्थी कार्य
के लिए प्रयुक्त बॉयलर या गैस के विस्फोट से हुई हानि या क्षति के लिए दायित्व
ग्रहण करती है। अग्नि बीमा की मानक पॉलिसी (Standard Fire Policy) में जो
हानियॉं, आपदाएं या वस्तुएं अपवर्जित (Excluded) हैं उनके प्रति बीमा कम्पनी
दायी नहीं होती। यह पॉलिसी केवल निजी आवास के लिए ही जारी की जाती है।
इसकी सुविधा यह है कि एक ही पॉलिसी के अन्तर्गत बीमित सम्पत्ति की अग्नि
और चोरी की आपदाओ से सम्भावित हानि का बीमा हो जाता है।

सर्व जोखिम पॉलिसी –

यह बीमा पॉलिसी गृहस्थी की कतिपय विशिष्ट वस्तुओं के लिए ली जाती है, जैसे,
जवाहरात, कैमरा, घड़ियां, पेंटिंग, कलात्मक वस्तुएं, इत्यादि। इन वस्तुओं की हानि
या क्षति यदि अग्नि या चोरी के कारण या किसी भी आकस्मिक कारण से होती हो
तब बीमा कम्पनी उसकी क्षतिपूर्ति करती है। इस पॉलिसी के अन्तर्गत ‘‘सम्मिलित
अग्नि आरै चोरी पॉलिसी’’ द्वारा संवृत जोखिमों के अतिरिक्त उन हानियों को भी
संवृत किया जाता है जो किसी भी आकस्मिक परिस्थितियों के कारण होती है। इस
पॉलिसी में बीमित वस्तुओं का मूल्य पारस्परिक स्वीकृति द्वारा तय किया जाता है
जिस ‘agreed value’ कहते है। अत: यह पॉलिसी मूल्यांकित पॉलिसी होती है।
पॉलिसी में अपवादित जोखिमों का भी विवरण दिया जाता है जिनके द्वारा हानि होने
पर कम्पनी का दायित्व नहीं होता। इन अपवादों के कतिपय उदाहरण ये हैं-बीमित
वस्तु का घिसाई या अन्दरूनी दोश (inherent defect) के कारण हानि, यान्त्रिक
गड़बड़ी के कारण हानि, या किसी वस्तु की मरम्मत या सफाई कराते समय हुई
हानि या क्षति।

अभिवहन मुद्रा पॉलिसी –

‘‘अभिवहन मुद्रा’’ (money-in-transit) का अर्थ है वह नकद मुद्रा, पोस्टल आर्डर,
मनीआर्डर, स्टाम्प आदि जो एक स्थान से दूसरे स्थान को ले जाए जाते हो।
सामान्य व्यापारिक कोर्यों के सिलसिले में प्राय: ही किसी व्यापारिक संस्थाा द्वारा
बैंकों, डाकघरो या अन्य व्यापारिक संस्थाओ में नित्य ही बड़ी-बड़ी रकमें भेजी जाती
हैं। इस सिलसिले में इस मुद्रा को कर्मचारियो की देख-रेख में एक स्थान से दूसरे
स्थान पर ले जाया जाता है। ऐसी नकद रकम एवं अन्य मुद्रा को ले जाने के
दौरान चोरी की जोखिम रहती ही है। अब तो ऐसी चोरियों के समाचार बहुत ही
सामान्य होते जा रहे हैं। इस जोखिम से सुरक्षा पाने के उद्देश्य से ही ‘‘अभिवहन
मुद्रा बीमा’’ (Money-in-Transit Insurance) कराया जाता है। यह बीमा
सामान्यतया वाणिज्य, व्यापार या उद्योग में लगे हुए संस्थानों के लिए होता है।

अभिवहन मुद्रा के एक स्थान से दूसरे स्थान पर ले जाते समय, अथवा बीमादार के
संस्थान में रखे गए नकद की यदि चोरी, डाका या किसी अन्य आकस्मिक दुर्घटना
द्वारा हानि होती है तब इस पॉलिसी के अन्तर्गत बीमा कम्पनी बीमादार की क्षतिपूर्ति
करने की दायी होती है। सामान्यतया बीमा कम्पनी इन कारणों से हुई हानियो के
प्रति दायी नहीं होती-(1) गलती या चूक के कारण नकदी की हानि, (2) किसी
कर्मचारी की बेईमानी के कारण हानि या (3) दंगे आदि के कारण हानि। किन्तु
अतिरिक्त प्रीमियम देकर इन हानियों को भी पॉलिसी में संवृत किया जा सकताा है।

यात्री सामान पॉलिसी –

यात्रा करने के सिलसिले में लोग सूटकेस, ट्रंक, बिस्तर तथा अन्य सामान साथ ले
जाते हैं। इन सामानो की चोरी की जोखिम को संवतृ करने के लिए एक पृथक्
पॉलिसी चलन में है जिसे ‘‘यात्री सामान पॉलिसी’’ कहा जाता हे। इन पॉलिसी के
अन्तर्गत यात्रा के सिलसिले में बीमित बैगेज के सामान की चोरी या अन्य किसी
दुर्घटना द्वारा हानि होने पर बीमा कम्पनी क्षतिपूर्ति करने का दायित्व ग्रहण करती
है। यह पॉलिसी प्राय: प्रतिश्ठित व्यक्तियो के लिए ही जारी होती है। यह किसी एक
यात्रा के लिए अथवा किसी एक अवधि (प्राय: एक वर्ष) में सभी स्थानों की यात्रा के
लिए जारी की जाती है। बीमादार को अपने साथ ले जाने वाले सभी सामानों का
पूर्ण विवरण देना होता है, तथा परिवहन-साधन, यात्रा मार्ग, और यात्रा के स्थानो
को भी बताना होता है। इस पॉलिसी मे यात्री के सामान, घड़ी, आदि का बीमा होता
है किन्तु आभूषण, कैमरे, नकद, प्रतिभूतियां, यात्रा-टिकट आदि शामिल नहीं होते।
जिन लोगों को प्राय: ही यात्रा करनी होती है उनके लिए यह पॉलिसी उपयोगी
होती है। अतिरिक्त प्रीमियम देकर इसमें अग्नि, दंगा, हड़ताल, आतंकवादी कार्यवाही
आदि द्वारा हानि की जोखिम भी संवृत की जाती है।

चोरी का बीमा कराने की प्रक्रिया 

चोरी का बीमा कराने की प्रक्रिया के प्रकार है-(1) कम्पनी के पास
प्रस्ताव पत्र भेजना, (2) उस प्रस्ताव पर कम्पनी द्वारा विचार और निर्णय, तथा (3)
जोखिम का आरम्भ और बीमा पॉलिसी का निर्गमन।

प्रस्ताव पत्र –

चोरी बीमा के लिए कम्पनी के छपे हुए प्रस्ताव पत्र में प्रस्ताव भेजना होता है।
आवासगृह, कारबार परिसर, अभिवहन मुद्रा, यात्री सामान, आदि के बीमों के लिए
पृथक्-पृथक् प्रस्ताव पत्र होते है। सामान्यतया प्रस्ताव पत्र में प्रस्तावक को जोखिम
सम्बन्धी ब्यौरे लिखने होते हैं, जैसे, जिस भवन में सम्पत्ति रखी है वह कहां स्थित
है, कैसे निर्मित है, उसमें प्रस्तावक का ही अधिकार है या अन्य लोगो का भी, उसके
दरवाजे-खिड़कियां आदि कैसे हैं, उसमे प्रस्तावक कब से है, वह आवास है या
दुकान या फैक्टरी, उसकी देखभाल के लिए रात में चौकीदार रहता है या नहीं,
आदि। आवासगृह के चोरी बीमा के प्रसंग में यह भी बताना होता है कि उसमें
कितने लागे परिवार के सदस्य हैं, स्थायी रूप से रहने वाले नौकरो और महे मानों
आदि की संख्या कितनी रहती है, आदि। इसके अतिरिक्त, उसमे रखी गई बीमा
कराई जाने वाली सम्पत्ति के सम्बन्ध में भी ब्योैरे देने होते हैं-क्या मूल्यवान वस्तुएं
सेफ में रखी जाती हैं, वह सेफ किस निर्माता का है, सम्पत्तियों का पृथक्-पृथक्
आरे सम्मिलित मल्ू य क्या है। इसके अतिरिक्त भूतकालीन बीमों और दावो के ब्यारै े
भी देने होते हैं। प्रस्ताव पत्र की इन सूचनाओं के आधार पर कम्पनी जोखिम का
आगणन करती है।अभिवहन मुद्रा के बीमा प्रस्तावक को उन स्थानो और दूरियों का
ब्यौरा देना होता है जिनके बीच मुद्रा को ले जाना पड़ता है और यह बताना होता
है कितने व्यक्ति मुद्रा ले जाते हैं, मुद्रा थैलियों, ट्रंकों, आदि में जाती है या किसी
अन्य प्रकार से, क्या उसके साथ सशस्त्र चौकीदार भी रहता है, आदि। इसके
अतिरिक्त, भूतकालीन हानियों का भी विरण देना होता है।

कम्पनी द्वारा विचार और निर्णय –

प्रस्ताव पत्र में उल्लिखित सूचनाओं के आधार पर कम्पनी प्रस्तावित बीमे से
सम्बन्धित आचारिक तथा भौतिक संकटों को आंकती है और तदनुसार प्रस्ताव को
स्वीकार करने के सम्बन्ध में निर्णय करती है। आचारिक संकट के लिए प्रस्तावक
की हैसियत, स्थिति, भूतकालीन चरित्र-वृत्त तथा विष्वसनीयता की जांच की जाती
है। यदि पहले भी चोरी के लिए दावा हुआ हो तब उस प्रसंग में यह भी देखा
जाता है कि उस चोरी में प्रस्तावक सांठ-गांठ अथवा लापरवाही की कोई आशंका
उत्पन्न हुई अथवा नहीं। इसके अतिरिक्त प्रस्तावित बीमे के भौतिक संकट के
निर्धारण में इन बातो पर विशेष ध्यान दिया जाता है : (1) भवन की स्थिति, (2)
भवन मे प्रवेश द्वार, (3) खिड़कियो, दरवाजों, आदि की विशेषताए, (4) पास-पड़ोस
की स्थिति, (5) भवन में रखे हुए माल की प्रकृति, आदि। इसके अतिरिक्त ,सुरक्षा के
लिए जो तरीके अपनाए जाते हैं उनकी समीक्षा की जाती है।कम्पनी उन प्रस्तावो
को अस्वीकृत कर देती है जिनमे (क) प्रस्तावक की ख्याति या विश्वसनीयता उच्च
कोटि की न प्रतीत हो, (ख) भवन अधिक समय तक खाली रखा जाता हो, (ग)
पहले अनेक बार चोरियां हो चुकी हो, (घ) मकान बहतु दूरी पर या बस्ती से दूर
स्थित हो।

जोखिम का आरम्भ और पॉलिसी –

यदि सभी दृष्टिकोणाे से प्रस्ताव स्वीकार करने योग्य पाया जाए तब कम्पनी
प्रस्तावक के पास अपना स्वीकृति पत्र भेजती है और प्रीमियम घोषित करती है।
प्रीमियम अदा होने के बाद बीमा प्रारम्भ हो जाता है। इसके लिए कम्पनी तत्काल
बीमादार को ‘‘कवर नोट’’ देती है, जिसमें बीमा सम्बन्धी विरण और जोखिम के
आरम्भ होने की तिथि दी जाती है। इसके बाद बीमादार के पास पॉलिसी भेज दी
जाती है।

Leave a Reply