रासायनिक अभिक्रिया के प्रकार

अनुक्रम

संयोजन अभिक्रिया

जैसा कि नाम से ही पता चलता है वह रासायनिक अभिक्रिया जिसमें दो या अधिक पदार्थों के संयोजन से एक नया पदार्थ बनता है संयोजन अभिक्रिया कहलाता है। उदाहरणार्थ जब कोई पदार्थ हवा में जलता है तब वह हवा में मौजूद ऑक्सीजन के साथ संयोजन करता है।

अपघटन अभिक्रिया

आपने देखा है कि अनबुझा चूने का (चूना पत्थर) विलयन हमारे घरों की पुताई में उपयोग होता है। क्या आपने कभी सोचा है कि यह अनबुझा चूना कहाँ से प्राप्त होता है। इसे चूना पत्थर को भट्टी में जला कर प्राप्त करते है। चूना पत्थर गर्म होकर चूना व कार्बन डाईऑक्साइड देता है।

CaCO3 (s) गर्म→ CaO (s) + CO2 (g) ...(14)
चूना पत्थर   अनबुझा चूना   कार्बन डाऑक्साइड

यह अभिक्रिया अपघटन अभिक्रिया का उदाहरण है। एक अपघटन अभिक्रिया वह जिसमें एक यौगिक दो या दो से अधिक पदार्थों (तत्व या यौगिक) में अपघटित हो जाता है।

विस्थापन /द्विविस्थापन  अभिक्रिया

उपचयन-अपचयन (रेडॉक्स अभिक्रिया) (संक्षारण व  विकृतगंधिता)

इलेक्ट्रान लाभ और हानि के संदर्भ में रीडाक्स अभिक्रिया 

अभी अपने उपचयन व अपचयन को ऑक्सीजन व हाइड्रोजन के लाभ और हानि के संदर्भ में सीखा है। हालांकि रीडाक्स क्रियाओं की यह परिभाषा केवल कुछ ही अभिक्रियाओं तक ही सीमित है।

प्रतिदिन की दिनचर्या में रीडाक्स का प्रभाव 

इस अभिक्रियाओं में से रीडॉक्स अभिक्रियायों का हमारे जीवन में सबसे अधिक महत्व हैं। यहां हम जंग की प्रक्रिया को उसके आर्थिक महत्ता के संदर्भ में चर्चा करेगें। हमारे भोजन व खाद्य पदार्थों का बासी होना सड़न की प्रक्रिया से सीधा जुड़ा है अत: काफी महत्वपूर्ण है। यह दोनों प्रक्रिया जंग लगना व बासी होकर सड़ना रीडाक्स क्रिया के ही परिणाम है।
  1. संक्षारण
  2. विकृतगंधिता
एक पदार्थ जिसमें बैक्टीरिया को खत्म करने की क्षमता होती है वह डिसइन्फेक्टेन्ट, बैक्टीरिसाइड या एक एन्टीसेप्टिक कहलाता है। बहुत प्रभावी डिसइन्फैक्टेन्ट शक्तिशाली आक्सीकारक है। एक ब्लीच (रेग हटाने वाला) रंगीन यौगि को आक्सीकरण दूसरे रंगहीन पदार्थों में कर देता है। बहुत से डिस्इन्फेक्टेन्ट युक्त जो कि ठोस यौगिकों के विभिन्न रूपों में मिलते है जैसे कि कैल्सियम हाइपोक्लोराइट, (Ca(ClO)2, आक्सीकारक हैं।

एक आक्सी एसिटिलीन टार्च में जो कि बैल्डिंग और धातुओं को काटने में प्रयोग होती है, एसीटिलीन का आक्सीकरण होता है और बहुत ज्यादा तापमान उत्पन्न करती है।

संक्षारण

जंग लगना एक विनाशकारी रासायनिक अभिक्रिया है जिसमें धातुओं का हवा और नमी की उपस्थिति में आक्सीकरण होता है। लोहे पर जंग लगना, चांदी का आभाहीन होना, तांबा, पीतल व कांसे पर एक हरी परत का जमना, जंग लगने के ही कुछ उदाहरण हैं। इसके कारण लोहे और स्टील से बनी हुई सभी मशीनें पुलों, जहाजों और कारोंको बहुत अधिक नुकसान पहुंचता है। इसको रोकने के उपाय और नुकसान पर प्रतिवर्ष करोड़ों रुपये का खर्च आता है। जंग लगने की प्रक्रिया को रोकना हमारे जैसे एक औद्योगिक विकासशील देशों के लिये एक बहुत बड़ी चुनौती है।

विकृतगंधिता

आपने लंबे समय से रखा हुआ तेल या वसायुक्त भोजन सूंघा अथवा चखा होगा। आप क्या पाते हैं? आप ताजे और रखे हुए तेल/घी की गंध में बहुत अंतर पायेंगे। ऐसा क्यों होता है? यह वास और तेल के आक्सीकरण होने के कारण होता है। इस परिवर्तन को विकृतगंधिता होना कहा जाता है। वसा व तेल के आक्सीकरण के परिणामस्वरूप (एसिड) अम्ल बनते है। ये अम्ल बनते है। ये अम्ल अप्रिय गंध और बुरा स्वाद देते हैं।

बहुत से खाद्य पदार्थ जो तेल या वास में तल कर पकाये जाते हैं। बिक्री के लिये हवा बंद डिब्बों में रखे जाते हैं। हवा बंद डिब्बे में खाद्य पदार्थ को रखने में ऑक्सीकरण की प्रक्रिया धीमी हो जाती है। आमतौर पर वसा व तेलयुक्त खाद्य पदार्थों में आक्सीकरण रोकने के लिये आक्सीकरण विरोधी पदार्थ डाले जाते हैं। क्या आप जानते हैं कि चिप्स निर्माता चिप्स में मौजूद तेल का ऑक्सीकरण रोकने के लिये चिप्स के बैग में नाइट्रोजन गैस को प्रवाहित करते हैं।

Comments