Posts

फलों का वर्गीकरण
फलों को हमारे दैनिक जीवन में आदिकाल से ही बड़ा महत्व दिया जाता रहा हैं। फलों का वर्गीकरण कई प्रकार से किया …

फसलों का वर्गीकरण
आर्थिक उद्देश्य से उगाये गये पौधों के समूह को फसल कहते हैं। फसलों का वर्गीकरण कई प्रकार से किया गया हैं जो …

वनस्पति का वर्गीकरण
वनस्पति का वर्गीकरण प्राकृतिक वनस्पति के अन्तर्गत पेड़-पौधे, लतायें तथा घासें सम्मिलित हैं। पादप जगत में वि…

संसाधनों का वर्गीकरण
संसाधनों का वर्गीकरण Strungera nd Devis के अनुसार संसाधनों के दो मुख्य प्रकार हैं- (i) प्राकृतिक संसाधन एवं …

संसाधनों का महत्व और प्रभावित करने वाले कारक
संसाधन का महत्व पर्यावरण में जैविक संसाधन में जीव-जन्तु तथा वनस्पति अति महत्वपूर्ण हैं, जबकि अजैविक संसाधनो…

प्रेम का अर्थ, परिभाषा और स्वरूप
प्रेम शब्द अपने आप में बड़ा व्यापक शब्द है। प्रेम शब्द का व्यवहार अनेक अर्थों में होता है, यथा - रूप, गुण, का…

सौन्दर्य का अर्थ एवं परिभाषा
सौन्दर्य का अर्थ ‘सुन्दर’ शब्द सु उपसर्ग पूर्वक उन्द् धातु में अरन् प्रत्यय लगाने से व्युत्पन्न होता है। उन्…

भारत में क्षेत्रवाद की उत्पत्ति के कारण
क्षेत्रवाद के अर्थ में हम कह सकते हैं कि एक देश में या देश के किसी भाग में निवास करने वाला, लोगों के छोटे …

रामकृष्ण मिशन की स्थापना, कार्य एवं इसके प्रमुख उद्देश्य
रामकृष्ण मिशन एक ऐसा संगठन है जो एक अध्यात्मिक आंदोलन है जिसे रामकृष्ण आंदोलन और वेदान्त आंदोलन। रामकृष्ण मिश…

आत्मकथा (Autobiography) का अर्थ एवं परिभाषा
‘आत्मकथा’ मूलत: अंग्रेजी शब्द ‘ऑटोबायोग्राफी’ ( Autobiography ) पर बना हुआ शब्द है। संस्कृत में ‘आत्मवृत्तकथ…

व्यावसायिक समाज कार्य क्या है?
समाज कार्य एक विकसित व्यवसाय है जिसका निश्चित ज्ञान, प्रविधियाँ और कौशल होते है ओैर जिन्हें सीखना प्रत्येक सा…