संपर्क भाषा किसे कहते हैं?

By Bandey No comments

संपर्क भाषा शब्द का प्रयोग अंग्रेजी के लिंग्वा फ्रेका (Lingua Franca) के प्रतिशब्द के रूप में किया जाता है। ‘लिंग्वा फ्रेका’ से तात्पर्य है, लोक बोली अथवा सामान्य बोली। जिस भाषा के […]

आधुनिक आर्य भाषा एवं उनका वर्गीकरण

By Bandey No comments

आधुनिक आर्य भाषा आधुनिक भारतीय आर्यभाषाओं की प्रमुख विशेषताएँ हैं- 1. आधुनिक भारतीय आर्यभाषाओं में प्रमुखत: वही ध्वनियाँ हैं जो प्राकृत, अपभ्रंश आदि में थीं। किन्तु कुछ विशेषताएँ भी हैं-(क) पंजाबी आदि […]

भारतीय भाषा परिवार- द्रविड़, नाग

By Bandey No comments

पाँच से अधिक आर्य तथा अनार्य परिवारों की भाषाएँ देश में मिलती हैं। दक्खिन के साढ़े चार प्रांतों अर्थात् आंध्र, कर्नाटक, केरल, तमिलनाडू और आधे सिंहल में सभ्य द्रविड़ भाषाएँ बोली जाती […]

अर्थ विज्ञान की अवधारणा और शब्द-अर्थ संबंध

By Bandey No comments

भाषा की लघुतम, स्वतंत्रत सार्थक इकाई शब्द है, इसलिए अर्थ-अध्ययन के समय शब्द पर विचार करना आवश्यक है। भतरृहरि ने शब्द के विषय में लिखा है कि संसार में ऐसा कोई ज्ञान […]

रूप परिवर्तन के कारण एवं दिशाएँ

By Bandey No comments

रूप परिवर्तन के कारण ‘रूप’ का सम्बन्ध ध्वनियों से है। अत: सामान्य तौर पर रूप-परिवर्तन और ध्वनि-परिवर्तन में विभाजक रेखा खींच पाना कठिन कार्य लगता है। किन्तु इन दोनों में वैज्ञानिक विभेद […]