आहार एवं पोषण का अर्थ एवं परिभाषा

By Bandey No comments

जीवधारियों को जैविक कार्यो के लिए ऊर्जा की आवश्यकता होती है। ऊर्जा भोज्य पदार्थो के जैव-रासायनिक आक्सीकरण से प्राप्त होता है। सम्पूर्ण प्रक्रिया को जिसके अन्तर्गत जीवधारियों द्वारा […]

मजदूरी भुगतान अधिनियम 1936

By Bandey No comments

प्रारंभ में यह अधिनियम कारखानों और रेलवे-प्रशासन में काम करने वाले ऐसे कर्मचारियों के साथ लागू था, जिनकी मजदूरी 200 रुपये प्रतिमाह से अधिक नही थी। बाद में […]

कार्य विश्लेषण क्या है ?

By Bandey No comments

मानवीय संसाधनों की अधिप्राप्ति, मानव संसांधन प्रबन्धन का प्रथम संचालनात्मक कार्य है, जिसे विभिन्न उप-कार्यों, जैसे-मानव संसाधन नियोजन, भर्ती तथा चयन में उप-विभाजित किया जा सकता है। प्रबन्धतन्त्र […]

सामाजिक विधान का अर्थ, परिभाषा, क्षेत्र एवं आवश्यकता

By Bandey 1 comment

सामाजिक विधान का अर्थ एवं परिभाषा  योजना आयोग के अनुसार ‘‘प्रचलित कानूनों तथा वर्तमान आवश्यकताओं के बीच दूरी को कम करने वाले विधान को सामाजिक विधान कहा जा […]

निर्देशन का अर्थ, परिभाषा एवं उद्देश्य

By Bandey No comments

मानव अपने जीवन काल में व्यक्तिगत व सामाजिक दोनों ही पक्षों में अधिकतम विकास लाने के लिए सदैव सचेष्ट रहता है इसके लिये वह अपने आस पास के […]