नेति क्रिया के प्रकार, क्रिया की विधि और उसके लाभ

By Bandey No comments

नेति षटकर्मों की तृतीय शुद्धिकरण की प्रक्रिया है। नेति क्रिया को आधुनिक समय में कान, नाक व गले से सम्बद्ध किया है। नेति क्रिया के माध्यम से मुख्य […]

वस्ति क्या है?

By Bandey No comments

वस्ति नाम बड़ी आंत के लिए प्रयुक्त होता है । इस अभ्यास में गुदा द्वारा वायु अथवा जल को खीचा जाता है जिससे बड़ी आंत की सफाई होती […]

धौति के प्रकार

By Bandey No comments

धौति अर्थात धोना वाहय रूप से शरीर की शुद्धि के लिए हम तरह−तरह के उपाय करते हैं जैसे स्नान इत्यादि। पर अन्त:करण की सफाई के लिए शरीर को […]

षट्कर्म का अर्थ, हठयोग प्रदीपिका में वर्णित षट्कर्म

By Bandey No comments

षट्कर्म शब्द क अर्थ है, छ: ऐसी क्रियायें जिनके माध्यम से शरीर का शोधन किया जाता है। षट्कर्म दो शब्दों से बना है- षट्+कर्म, शट् का अर्थ छ, […]

मानववाद क्या है?

By Bandey No comments

‘मानववाद’ शब्द की उत्पत्ति लैटिन भाषा के ह्युमनिट्स (Humanitus) शब्द से हुई है जिसका अर्थ है ‘उन्नत ज्ञान’ है। अत: मानववादी साहित्यकारों ने प्राचीन यूनानी एवं रोमन साहित्य […]