वाचन

मौन वाचन किसे कहते हैं ?

मौन वाचन अर्थात् मन-ही -मन का वाचन, इस प्रकार के वाचन में जब लिखित सामग्री को बिना हौंठ हिलाए, बिना आवाज किये हुए चुपचाप पढ़ते है तो उसे मौन वाचन कहते है।  👉 शिक्षा शब्दकोश में लिखा है, ‘‘मौन वाचन श्रवणीय शब्दोच्चारण के बिना किया गया पठन है। मौन वाचन…

सस्वर वाचन का अर्थ, उद्देश्य, महत्व, गुण, भेद

सस्वर का अर्थ है जोर से अथवा स्वयं सहित वाचन करना। हम देखते है अनेक अनौपचारिक अवसरों पर व्याख्यान देते समय वाद-विचार एवं गोष्ठियों में अपनी बात को प्रभावशाली ढंग से कहने के लिए यही वाचन का रूप प्रयुक्त होता है। शुद्ध, प्रभावपूर्ण वाचन श्रोताओं पर विश…

वाचन किसे कहते हैं ?

जब हम कोई पुस्तक, पत्र या लिखित सामग्री आदि को पढ़ते है, उसी को वाचन कहते है। वाचन में शब्द के साथ ध्वनि एवं अर्थ दोनों ही निहित होते है।  परिभाषा 1- वाचन वह जटिल अधिगम (सीखने) की प्रक्रिया है, जिसमें दृश्य, श्रव्य एवं गति सर्किटों को मस्तिष्क के अध…

Load More
That is All