श्रम विभाजन

श्रम विभाजन पर दुर्खीम के विचार

समाजशास्त्री के रूप में दुर्खीम का मुख्य विषय सामाजिक व्यवस्था तथा एकीकरण रहा। समाज को एक सूत्र में पिरोए रखने वाली शाक्ति कौन सी हैं? किन बातों के कारण यह एक पूर्ण इकाई बना रहता है? उनके अनुसार औद्योगिक क्रांति से पहले और बाद के समाज में सामाजिक एकत…

Load More
That is All