अंकेक्षण (Auditing) का अर्थ, आवश्यकता, उद्देश्य, क्षेत्र लाभ एवं प्रकार

By Bandey 3 comments

जिस प्रकार शरीर की व्यवस्थता की जाँच डॉक्टर से कराना आवश्यक है, उसी प्रकार लेख-पुस्तकों की जाँच अंकेक्षण से कराना आवश्यक है। डॉक्टर शरीर जाँच के बाद यह प्रमाणित करता है कि शरीर में दोष है या नहीं; यदि है तो किस प्रकार का है, ऐसा रिपोर्ट में लिख देता है। उसी प्रकार लेखा पुस्तकों […]

लागत अंकेक्षण क्या है?

By Bandey No comments

सन् 1965 मे भारतीय कम्पनी अधिनियम मे एक क्रांतिकारी परिवर्तन करके लागत अंकेक्षण (cost Audit) के सम्बन्ध मे धारा 233 (B) जोडी गई। इस प्रकार भारतवर्श विश्व मे ऐसा देश बन गया जहॅं लागत अंकेक्षण को सर्वप्रथम वैधानिक मान्यता दी गई। इससे जहॉं विश्व में इसका गौरव बढा है, वहीं स्वदेश में भी लेखा व्यवसाय […]