मेवाड़ का इतिहास और मेवाड़ में गोहिल वंश का उत्थान

By Bandey | | No comments

मेवाड़ का इतिहास भारतीय संस्कृति तथा उसके विविध पक्षों की विकासात्मक गतिविधियों के संचालित करने की दृष्टि से भी अत्यधिक समृद्ध रहा है।

इंदौर का इतिहास एवं भौगोलिक विकास

By Bandey | | No comments

मध्यप्रदेश का केन्द्र बिन्दु, हृदय एवं वाणिज्य राजधानी इंदौर शहर को माना जाता है अर्थात् जिस प्रकार भारत राष्ट्र की राजधानी तो दिल्ली है परन्तु मुम्बई को व्यवसायिक केन्द्र माना जाता है ठीक उसी प्रकार इंदौर […]

ईसाई इतिहास लेखन की परम्परा, विशेषताएँ, गुण व दोष

By Bandey | | No comments

प्राचीनकालीन इतिहास लेखन (ग्रीको-रोमन, चीनी तथा भारतीय) की तुलना में मध्यकालीन इतिहास लेखन की प्रमुख विशेषता यह थी कि इसमें दैवीय विधान को महत्व दिया गया जिसमें कि व्यक्ति की भूमिका नाम मात्र की थी। मध्यकालीन, […]

प्राचीन भारतीय इतिहास के पुरातात्विक स्रोत

By Bandey | | No comments

प्राचीन भारत के अध्ययन के लिए पुरातात्विक सामग्री का विशेष महत्त्व है। उसके तीन प्रमुख कारण हैं। पहला यह कि भारतीय ग्रंथों का रचना-काल ठीक से ज्ञात नहीं है, इसलिए उनसे किसी काल विशेष की सामाजिक […]

स्थानीय इतिहास क्या है?

By Bandey | | No comments

स्थानीय इतिहास अतीत को आमतौर पर ‘ऐतिहासिक-लेखन की विशिष्ट धारा जो भौगोलिक रूप में लघु क्षेत्र पर केन्द्रित, अव्यावसायिक इतिहास अतीतकारों द्वारा, अशैक्षिक श्रोताओं के लिए लगातार लिखा जाने वाला और उन पर केन्द्रित इतिहास अतीत […]

इतिहास का अर्थ, परिभाषा, वर्गीकरण

By Bandey | | No comments

इतिहास की व्यत्पत्ति जर्मन शब्द ‘गेस्चिचटे’ से मानी जाती है, जिसका अर्थ है विगत घटनाओं का विशेष एवं बोधगम्य विवरण। इति-ह-आस में अंतिम शब्द अधिक महत्व रखता है, क्योंकि इसका उल्लेख प्राचीन वाडग़्मय में बहुत स्थानों […]

उत्तर प्रदेश का इतिहास

By Bandey | | No comments

पुरातन काल में उत्तर प्रदेश मध्य देश के नाम से प्रसिद्ध था। उत्तर पश्चिम से आने वाले आक्रामकों के रास्ते में पड़ने के कारण तथा दिल्ली और पटना के बीच उपजाऊ मैदान का हिस्सा होने के […]

मौर्य साम्राज्य का इतिहास

By Bandey | | No comments

जिस समय सिकन्दर अपने विश्व विजय के अभियान पर भारत की ओर आया तो यहां मगध में एक शक्तिशाली नन्द साम्राज्य का राज्य था ये नन्द राजा अपनी निम्न उत्पत्ति एवं गलत नीतियें के कारण प्रजा […]

हिटलर का परिचय एवं नीति

By Bandey | | No comments

एडोल्फ हिटलर का जन्म 20 अप्रैल, 1889 में आस्ट्रिया के एक गांव के सामान्य परिवार में हुआ था। उसके पिता चुंगी-विभाग में एक साधारण कर्मचारी थे। निर्धनता के कारण हिटलर विधिवत् रूप में उच्च शिक्षा प्राप्त […]

मुसोलिनी का परिचय एवं नीति

By Bandey | | No comments

फासीवाद के सिद्धातं के प्रणेता बेनिटो मुसोलिनी का जन्म एक लुहार परिवार में सन् 1883 में हुआ था। उसका पिता समाजवादी विचारधारा का समर्थक था, इसलिए मुसोलिनी भी अपने पिता के विचारों से प्रभावित हुआ था। […]