इतिहास का अर्थ, परिभाषा, वर्गीकरण

By Bandey No comments

इतिहास की व्यत्पत्ति जर्मन शब्द ‘गेस्चिचटे’ से मानी जाती है, जिसका अर्थ है विगत घटनाओं का विशेष एवं बोधगम्य विवरण। इति-ह-आस में अंतिम शब्द अधिक महत्व रखता है, क्योंकि इसका उल्लेख प्राचीन वाडग़्मय में बहुत स्थानों पर हुआ है। ‘इतिहास’ शब्द तीन शब्दों से मिल कर बना है ‘इति-ह-आस’। जिसका अर्थ है- ‘निश्चित रूप से […]

उत्तर प्रदेश का इतिहास

By Bandey No comments

पुरातन काल में उत्तर प्रदेश मध्य देश के नाम से प्रसिद्ध था। उत्तर पश्चिम से आने वाले आक्रामकों के रास्ते में पड़ने के कारण तथा दिल्ली और पटना के बीच उपजाऊ मैदान का हिस्सा होने के कारण इसके इतिहास का उत्तर भारत के इतिहास से निकटतम सम्बन्ध है। यद्यपि इसके प्रागैतिहासिक अथवा आदिऐतिहासिक काल के […]

मौर्य साम्राज्य का इतिहास

By Bandey No comments

जिस समय सिकन्दर अपने विश्व विजय के अभियान पर भारत की ओर आया तो यहां मगध में एक शक्तिशाली नन्द साम्राज्य का राज्य था ये नन्द राजा अपनी निम्न उत्पत्ति एवं गलत नीतियें के कारण प्रजा में काफी अलोकप्रिय हो चुके थे परन्तु फिर भी सिकन्दर की सेना ने उनसे मुकाबला न करना उचित समझा […]

हिटलर का परिचय एवं नीति

By Bandey No comments

एडोल्फ हिटलर का जन्म 20 अप्रैल, 1889 में आस्ट्रिया के एक गांव के सामान्य परिवार में हुआ था। उसके पिता चुंगी-विभाग में एक साधारण कर्मचारी थे। निर्धनता के कारण हिटलर विधिवत् रूप में उच्च शिक्षा प्राप्त नहीं कर सका। उसके पिता की यह आकांक्षा थी कि उसका पुत्र किसी सरकारी सेवा में स्थान ग्रहण करे […]

मुसोलिनी का परिचय एवं नीति

By Bandey No comments

फासीवाद के सिद्धातं के प्रणेता बेनिटो मुसोलिनी का जन्म एक लुहार परिवार में सन् 1883 में हुआ था। उसका पिता समाजवादी विचारधारा का समर्थक था, इसलिए मुसोलिनी भी अपने पिता के विचारों से प्रभावित हुआ था। उसकी माता अध्यापनकार्य करती थीं। उनकी प्रेरणा से मुसोलिनी ने भी एक छोटे स्कूल में अध्यापन प्रारंभ कर दिया। […]