व्यावसायिक पर्यावरण के प्रकार

By Bandey 1 comment

व्यावसायिक पर्यावरण मुख्य रूप से आन्तरिक एवं बाह्य पर्यावरण के योग से बनता है। आन्तरिक पर्यावरण के घटक है जो एक फर्म के नियंत्रण में होते हैं। इस प्रकार के घटक फर्म के संसाधनों, नीतियों एवं उद्देश्यों से सम्ब- न्धित होते हैं। लेकिन जब हम व्यवासायिक पर्यावरण के उन घटकों की बात करते हैं जो […]

व्यावसायिक पर्यावरण का अर्थ, परिभाषा, घटक एवं महत्व

By Bandey No comments

व्यावसायिक पर्यावरण दो शब्दों-व्यवसाय एवं पर्यावरण के संयोग से बना है। व्यवसाय, विद्यमान पर्यावरण में रहकर अपनी क्रियाओं को संचालित करता है। व्यवसाय को पर्यावरण प्रभावित करता है और व्यवसाय पर्यावरण को प्रभावित करता है। अत: दोनों ही अन्तर्सम्बन्धित हैं। वास्तव में व्यावसायिक पर्यावरण उन सभी परिस्थितियों, घटनाओं एवं कारकों का योग है जो व्यवसाय […]

भुगतान शेष क्या है?

By Bandey 2 comments

भुगतान शेष का अर्थ देश के समस्त आयातों एवं निर्यातों तथा अन्य सेवाओं के मूल्यों के संपूर्ण विवरण से होता है। जो कि एक निश्चित अवधि के लिए बनाया जाता है इसके अंतर्गत लेनदेन को दो पक्ष होते है। एक और लेन दारियों का विवरण होता है जिसे धनात्मक पक्ष कहते है और दूसरी और […]

व्यापार शेष क्या है?

By Bandey No comments

व्यापार शेष के अंतर्गत आयातों और निर्यातों का विस्तृत विवरण रहता है। व्यापार शेष आयातों और निर्यातों के अंतर को स्पष्ट करता है। किसी देश का व्यापार शेष या आयातों धनात्मक याने कि अनुकूल या णात्मक याने की प्रतिकूल हो सकता है। जब एक देश के आयातों की तुलना में निर्यात अधिक होता है तो […]