सविनय अवज्ञा आंदोलन के कारण, महत्व एवं प्रभाव

By Bandey 3 comments

1929 ई. में लाहौर के काँग्रेस अधिवेशन में कँाग्रेस कार्यकारणी ने गाँधीजी को यह अधिकार दिया कि वह सविनय अवज्ञा आन्दोलन आरंभ करें। तद्नुसार 1930 में साबरमती आश्रम में कांग्रेस कार्यकारणी की बैठक हुई। इसमें एक बार पुन: यह सुनिश्चित किया गया कि गाँधीजी जब चाहें जैसे चाहें सविनय अवज्ञा आन्दोलन आरंभ करें। सविनय अवज्ञा […]