हठयोग साधना के ऐतिहासिक विकास एवं परम्परा

By Bandey No comments

हठयोग साधना के ऐतिहासिक विकास  हठयोग साधना के ऐतिहासिक विकास को हम दो परम्पराओं में बाँट सकतें है:- (1) परम्परानुसार विकास (2) ऐतिहासिक एवं पुरातात्विक विकास। परम्परानुसार विकास –   परम्परानुसार हठ्योग साधना के विकास में ऐसी मान्यता चली आ रही है कि समस्त साधनों का मूल योग है, तप, जप, संन्यास, उपनिषद् ज्ञान आदि मोक्ष […]