शिक्षा मनोविज्ञान का अर्थ, परिभाषा, क्षेत्र, विधियां

By Bandey 1 comment
शिक्षा मनोविज्ञान, मनोविज्ञान के सिद्धांतों का शिक्षा के क्षेत्र में प्रयोग है। स्किनर के शब्दों में
‘‘शिक्षा मनोविज्ञान उन खोजों को शैक्षिक परिस्थितियों में प्रयोग करता है जो कि विशेषतया मानव,
प्राणियों के अनुभव और व्यवहार से संबंधित है।’’

शिक्षा मनोविज्ञान दो शब्दों के योग से बना है – ‘शिक्षा’ और ‘मनोविज्ञान’। अत: इसका शाब्दिक
अर्थ है – शिक्षा संबंधी मनोविज्ञान। दूसरे शब्दों में, यह मनोविज्ञान का व्यावहारिक रूप है और शिक्षा की
प्रक्रिया में मानव व्यवहार का अध्ययन करने वाला विज्ञान है। अत: हम स्किनर के शब्दों में कह सकते है
‘‘शिक्षा मनोविज्ञान अपना अर्थ शिक्षा से, जो सामाजिक प्रक्रिया है और मनोविज्ञान से, जो व्यवहार संबंधी
विज्ञान है, ग्रहण करता है।’’ शिक्षा मनोविज्ञान के अर्थ का विश्लेषण करने के लिए स्किनर ने अधोलिखित तथ्यों की ओर
संकेत किया है:-

  1. शिक्षा मनोविज्ञान का केन्द्र, मानव व्यवहार है।
  2. शिक्षा मनोविज्ञान खोज और निरीक्षण से प्राप्त किए गए तथ्यों का संग्रह है।
  3. शिक्षा मनोविज्ञान में संग्रहीत ज्ञान को सिद्धांतों का रूप प्रदान किया जा सकता है।
  4. शिक्षा मनोविज्ञान ने शिक्षा की समस्याओं का समाधान करने के लिए अपनी स्वयं की पद्धतियों का
    प्रतिपादन किया है।
  5. शिक्षा मनोविज्ञान के सिद्धांत और पद्धतियां शैक्षिक सिद्धांतों और प्रयोगों को आधार प्रदान करते
    है।

शिक्षा मनोविज्ञान की परिभाषाएं

शिक्षा मनोविज्ञान के सिद्धांतों का शिक्षा में प्रयोग ही नहीं करता अपितु शिक्षा की समस्याओं को
हल करने में योग देना है। इसलिए शिक्षा विदो ने शिक्षा की समस्याओं के अध्ययन, विश्लेषण, विवेचन
तथा समाधान के लिये इसकी परिभाषाएं इस प्रकार दी है।

  1. स्किनर – शिक्षा मनोविज्ञान के अन्तर्गत शिक्षा से संबंधित संपूर्ण व्यवहार आरै व्यक्तित्व आ जाता
    है।
  2. क्रो एण्ड क्रो – शिक्षा मनोविज्ञान व्यक्ति के जन्म से वृद्धावस्था तक सीखने के अनुभवों का वर्णन
    और व्याख्या करता है।
  3. सॉरॅरे व टेलेलफोडेर्ड – शिक्षा मनोविज्ञान का मुख्य संबंध सीखने से है। वह मनोविज्ञान का वह अंग
    है जो शिक्षा के मनोवैज्ञानिक पहलुओं की वैज्ञानिक खोज से विशेष रूप से संबंधित है।

शिक्षा मनोविज्ञान की आवश्यकता

  1. बालक के स्वभाव का ज्ञान प्रदान करने हेतु।
  2. बालक के वृद्धि और विकास हेतु।
  3. बालक को अपने वातावरण से सामंजस्य स्थापित करने के लिए।
  4. शिक्षा के स्वरूप, उद्देश्यों और प्रयोजनों से परिचित करना।
  5. सीखने और सिखाने के सिद्धांतों और विधियों से अवगत कराना।
  6. संवेगों के नियंत्रण और शैक्षिक महत्व का अध्ययन।
  7. चरित्र निर्माण की विधियों और सिद्धांतों से अवगत कराना।
  8. विद्यालय में पढ़ाये जाने वाले विषयों में छात्र की योग्यताओं का माप करने की विधियों में प्रशिक्षण
    देना।
  9. शिक्षा मनोविज्ञान के तथ्यों और सिद्धांतों की जानकारी के लिए प्रयोग की जाने वाली वैज्ञानिक
    विधियों का ज्ञान प्रदान करना।

शिक्षा मनोविज्ञान के क्षेत्र

हमने यह देखा कि विभिन्न लेखकों ने शिक्षा मनोविज्ञान की भिन्न-भिन्न परिभाषाएं दी है।
इसलिए शिक्षा मनोविज्ञान के क्षेत्र के बारे में निश्चित तौर पर कुछ नहीं कहा जा सकता है। इसके
अतिरिक्त शिक्षा मनोवैज्ञानिक एक नया तथा पनपता विज्ञान है। इसके क्षेत्र अनिश्चित है और धारणाएं
गुप्त है। इसके क्षेत्रों में अभी बहुत सी खोज हो रही है और संभव है कि शिक्षा मनोविज्ञान की नई धारणाएं, नियम और सिद्धांत प्राप्त हो जाये। इसका भाव यह है कि शिक्षा मनोविज्ञान का क्षेत्र और
समस्याएं अनिश्चित तथा परिवर्तनशील है। चाहे कुछ भी हो निम्नलिखित क्षेत्र या समस्याओं को शिक्षा
मनोविज्ञान के कार्य क्षेत्र में शामिल किया जा सकता है। क्रो एण्ड क्रो- ‘‘शिक्षा मनोविज्ञान की विषय
सामग्री का संबंध सीखने को प्रभावित करने वाली दशाओं से है।’’

  1. व्यवहार की समस्या।
  2. व्यक्तिगत विभिन्नताओं की समस्या।
  3. विकास की अवस्थाएं।
  4. बच्चों का अध्ययन।
  5. सीखने की क्रियाओं का अध्ययन।
  6. व्यक्तित्व तथा बुद्धि।
  7. नाप तथा मूल्यांकन।
  8. निर्देश तथा परामर्श।
READ MORE  कार्य विवरण का अर्थ, परिभाषा, लाभ, विशेषताएँ

शिक्षा मनोविज्ञान की विधियां

शिक्षा मनोविज्ञान को व्यवहारिक विज्ञान की श्रेणी में रखा जाने लगा है। विज्ञान होने के कारण
इसके अध्ययन में भी अनेक विधियों का विकास हुआ। ये विधियां वैज्ञानिक हैं। जार्ज ए लुण्डबर्ग के
शब्दों में ‘‘सामाजिक वैज्ञानिकों में यह विश्वास पूर्ण हो गया है कि उनके सामने जो समस्याऐं है उनको
हल करने के लिए सामाजिक घटनाओं के निष्पक्ष एवं व्यवस्थित निरीक्षण, सत्यापन, वर्गीकरण तथा
विश्लेषण का प्रयोग करना होगा। ठोस एवं सफल होने क कारण ऐसे दृष्टिकोण को वैज्ञानिक पद्धति
कहा जाता है।’’ शिक्षा मनोविज्ञान में अध्ययन और अनुसंधान के लिए सामान्य रूप से जिन विधियों का प्रयोग
किया जाता है उनको दो भागों में विभाजित किया जा सकता है:-
१.  आत्मनिष्ठ विधियॉ

  1. आत्मनिरीक्षण विधि
  2. गाथा वर्णर्नन विधि
२. वस्तुुिनिष्ठ विधियॉ
  1. प्रयोगात्मक विधि
  2. निरीक्षण विधि
  3. जीवन इतिहास विधि
  4. उपचारात्मक विधि
  5. विकासात्मक विधि
  6. मनोेिविश्लेषण विधि
  7. तुलनात्मक विधि
  8. सांंख्यिकी विधि
  9. परीक्षण विधि
  10. साक्षात्कार विधि
  11. प्रश्नावली विधि
  12. विभेदेदात्मक विधि
  13. मनोभौैितिकी विधि

आत्म निरीक्षण विधि (अन्र्तदर्शन विधि) 

आत्म निरीक्षण विधि को अन्र्तदर्शन, अन्तर्निरीक्षण विधि भी कहते है। स्टाउट के अनुसार ‘‘अपना
मानसिक क्रियाओं का क्रमबद्ध अध्ययन ही अन्तर्निरीक्षण कहलाता है।’’

वुडवर्थ ने इस विधि को आत्मनिरीक्षण कहा है। इस विधि मेंं व्यक्ति की मानसिक क्रियाएं
आत्मगत होती हे। आत्मगत होने के कारण आत्मनिरीक्षण या अन्तर्दर्शन विधि अधिक उपयोगी होती हे।

लॉक के अनुसार – मस्तिष्क द्वारा अपनी स्वयं की क्रियाओं का निरीक्षण।’’

1. परिचय :- पूर्व काल के मनोवैज्ञानिक अपनी मस्तिष्क क्रियाओं और प्रतिक्रियाओं का ज्ञान प्राप्त
करने के लिये इसी विधि पर निर्भर थे। वे इसका प्रयोग अपने अनुभवों का पुन: स्मरण और
भावनाओं का मूल्यांकन करने के लिये करते थे। वे सुख, दुख, क्रोध और शान्ति, घृणा और प्रेम
के समय अपनी भावनाओं और मानसिक दशाओं का निरीक्षण करके उनका वर्णन करते थे।

READ MORE  औद्योगिक संबंध की अवधारणा, प्रकृति व अर्थ

2. अर्थ :- अन्तर्दर्शन का अर्थ है- ‘‘अपने आप में देखना।’’ इसकी व्याख्या करते हुए बी.एन. झा
ने लिखा है ‘‘आत्मनिरीक्षण अपने स्वयं के मन का निरीक्षण करने की प्रक्रिया है। यह एक प्रकार
का आत्मनिरीक्षण है जिसमें हम किसी मानसिक क्रिया के समय अपने मन में उत्पन्न होने वाली
स्वयं की भावनाओं और सब प्रकार की प्रतिक्रियाओं का निरीक्षण, विश्लेषण और वर्णन करते है।’’

3. गुण- मनोविज्ञान के ज्ञान में वृृिद्धि :- डगलस व हालैण्ड के अनुसार – ‘‘मनोविज्ञान ने इस
विधि का प्रयोग करके हमारे मनोविज्ञान के ज्ञान में वृद्धि की है।’’

4. अन्य विधियों में सहायक :- डगलस व हालैण्ड के अनुसार ‘‘यह विधि अन्य विधियों द्वारा प्राप्त
किये गये तथ्यों नियमों और सिद्धांन्तों की व्याख्या करने में सहायता देती है।’’

5. यंत्र व सामग्री की आवश्यकता :- रॉस के अनुसार ‘‘यह विधि खर्चीली नहीं है क्योंकि इसमें
किसी विशेष यंत्र या सामग्री की आवश्यकता नहीं पड़ती है।’’

6. प्रयोगशाला की आवश्यकता :- यह विधि बहुत सरल है। क्योंकि इसमें किसी प्रयोगशाला की
आवश्यकता नहीं है। रॉस के शब्दों में ‘‘मनोवैज्ञानिकों का स्वयं का मस्तिष्क प्रयोगशाला होता है
और क्योंकि वह सदैव उसके साथ रहता है इसलिए वह अपनी इच्छानुसार कभी भी निरीक्षण कर
सकता है।’’

जीवन इतिहास विधि या व्यक्ति अध्ययन विधि

व्यक्ति अध्ययन विधि का प्रयोग मनोवैज्ञानिकों द्वारा मानसिक रोगियों, अपराधियों एवं समाज
विरोधी कार्य करने वाले व्यक्तियों के लिये किया जाता है। ‘‘जीवन इतिहास द्वारा मानव व्यवहार का
अध्ययन।’’ बहुधा मनोवैज्ञानिक का अनेक प्रकार के व्यक्तियों से पाला पड़ता है। इनमें कोई अपराधी,
कोई मानसिक रोगी, कोई झगडालू, कोई समाज विरोधी कार्य करने वाला और कोई समस्या बालक होता
है। मनोवैज्ञानिक के विचार से व्यक्ति का भौतिक, पारिवारिक व सामाजिक वातावरण उसमें मानसिक
असंतुलन उत्पन्न कर देता है। जिसके फलस्वरूप वह अवांछनीय व्यवहार करने लगता है। इसका
वास्तविक कारण जानने के लिए वह व्यक्ति के पूर्व इतिहास की कड़ियों को जोड़ता है। इस उद्देश्य से
वह व्यक्ति उसके माता पिता, शिक्षकों, संबंधियों, पड़ोसियों, मित्रों आदि से भेंट करके पूछताछ करता है।
इस प्रकार वह व्यक्ति के वंशानुक्रम, पारिवारिक और सामाजिक वातावरण, रूचियों, क्रियाओं, शारीरिक
स्वास्थ्य, शैक्षिक और संवेगात्मक विकास के संबंध में तथ्य एकत्र करता है जिनके फलस्वरूप व्यक्ति
मनोविकारों का शिकार बनकर अनुचित आचरण करने लगता है। इस प्रकार इस विधि का उद्देश्य
व्यक्ति के किसी विशिष्ट व्यवहार के कारण की खोज करना है। क्रो व क्रो ने लिखा है ‘‘जीवन इतिहास
विधि का मुख्य उद्देश्य किसी कारण का निदान करना है।’’

वस्तुनिष्ठ विधियां

बहिर्दर्श्र्शर्नन या अवलोकेकन विधि –
बहिदर्शन विधि को अवलोकन या निरीक्षण विधि भी कहा जाता है। अवलोकन या निरीक्षण का
सामान्य अर्थ है- ध्यानपूर्वक देखना। हम किसी के व्यवहार आचरण एवं क्रियाओं, प्रतिक्रियाओं आदि को
बाहर से ध्यानपूर्वक देखकर उसकी आंतरिक मन:स्थिति का अनुमान लगा सकते है।


उदाहरणार्थ:- यदि
कोई व्यक्ति जोर-जोर से बोल रहा है और उसके नेत्र लाल है तो हम जान सकते है कि वह क्रुद्ध है।
किसी व्यक्ति को हंसता हुआ देखकर उसके खुश होने का अनुमान लगा सकते हैं।
निरीक्षण विधि में निरीक्षणकर्ता, अध्ययन किये जाने वाले व्यवहार का निरीक्षण करता है और
उसी के आधार पर वह विषय के बारे में अपनी धारणा बनाता है। व्यवहारवादियों ने इस विधि को विशेष
महत्व दिया है।

READ MORE  वैज्ञानिक प्रबंधन के सिद्धांत

कोलेसनिक के अनुसार निरीक्षण दो प्रकार का होता है (1) औपचारिक और (2) अनौपचारिक।
औपचारिक निरीक्षण नियंत्रित दशाओं में और अनौपचारिक निरीक्षण अनियंत्रित दशाओं में किया जाता है।
इनमें से अनौपचारिक निरीक्षण, शिक्षक के लिये अधिक उपयोगी है। उसे कक्षा और कक्षा के बाहर अपने
छात्रों के व्यवहार का निरीक्षण करने के लिए अनेक अवसर प्राप्त होते है। वह इस निरीक्षण के आधार पर
उनके व्यवहार के प्रतिमानो का ज्ञान प्राप्त करके उनको उपयुक्त निर्देशन दे सकता है।

प्रश्नावली

गुड तथा हैट के अनुसार -’’सामान्यत: प्रश्नावली शाब्दिक
प्रश्नों के उत्तर प्राप्त करने की विधि है, जिसमें व्यक्ति को स्वयं ही प्रारूप में भरकर देने होते हैं। इस
विधि में प्रश्नों के उत्तर प्राप्त करके समस्या संबंधी तथ्य एकत्र करना मुख्य होता है। प्रश्नावली एक
प्रकार से लिखित प्रश्नों की योजनाबद्ध सूची होती है। इसमें सम्भावित उत्तरों के लिए या तो स्थान रखा
जाता है या सम्भावित उत्तर लिखे रहते हैं।

साक्षात्कार

इस विधि में व्यक्तियों से भेंट कर के समस्या संबंधी तथ्य एकत्रित करना मुख्य होता हैं इस
विधि के द्वारा व्यक्ति की समस्याओं तथा गुणों का ज्ञान प्राप्त किया जाता है। इसमें दो व्यक्तियों में
आमने-सामने मौखिक वार्तालाप होता है, जिसके द्वारा व्यक्ति की समस्याओं का समाधान खोजने तथा
शारीरिक और मानसिक दशाओं का ज्ञान प्राप्त करने का प्रयास किया जाता है।
गुड एवं हैट के शब्दों में – ‘‘किसी उद्देश्य से किया गया गम्भीर वार्तालाप ही साक्षात्कार है।

प्रयोग विधि

‘‘पूर्व निर्धारित दशाओं में मानव व्यवहार का अध्ययन।’’ विधि में प्रयोगकर्ता स्वयं अपने द्वारा
निर्धारित की हुई परिस्थितियों या वातावरण में किसी व्यक्ति के व्यवहार का अध्ययन करता है या किसी
समस्या के संबंध में तथ्य एकत्र करता है।

मनोेिचिकित्सीय विधि

‘‘व्यक्ति के अचेतन मन का अध्ययन करके उपचार करना।’’ इस विधि के द्वारा व्यक्ति के
अचेतन मन का अध्ययन करके, उसकी अतृप्त इच्छाओं की जानकारी प्राप्त की जाती है। तदुपरांत उन
इच्छाओं का परिष्कार या मार्गान्तीकरण करके व्यक्ति का उपचार किया जाता है और इस प्रकार इसके
व्यवहार को उत्तम बनाने का प्रयास किया जाता है।

| Home |

1 Comment

Nitin Singh

Jul 7, 2018, 9:52 am Reply

Good collection

Leave a Reply