व्यापार शेष का अर्थ

अनुक्रम [छुपाएँ]


व्यापार शेष के अंतर्गत आयातों और निर्यातों का विस्तृत विवरण रहता है। व्यापार शेष आयातों और निर्यातों के अंतर को स्पष्ट करता है। किसी देश का व्यापार शेष या आयातों धनात्मक याने कि अनुकूल या णात्मक याने की प्रतिकूल हो सकता है। जब एक देश के आयातों की तुलना में निर्यात अधिक होता है तो उसे धनात्मक व्यापार शेष कहते हैं और यदि आयातों की तुलना में निर्यात कम होता है तो उसे ऋणात्मक व्यापार शेष कहते हैं। व्यापार शेष को व्यापार संतुलन के नाम से भी जाना जाता है व्यापार शेष में केवल वस्तुओं के निर्यात और आयात को ही शामिल किया जाता है। वस्तुओं के आयात निर्यात को दृश्य व्यापार कहते हैं। अत: व्यापार शेष को दृश्य मदों का शेष भी कहते हैं। निम्न तालिका में 1980-81 से भारत के व्यापार शेष की स्थिति दिखा ग है।

भारत में व्यापार शेष की स्थिति 
करोड़ रूपये में
वर्ष निर्यात का मूल्य आयात का मूल्य व्यापार शेष
1980-81 6576 12544 -5967
1989-90 22229 40642 -12413
1990-91 33153 50086 -16934
1991-92 44923 51418 -6495
1992-93 54762 68863 -14101
1993-94 71146 78630 -7484

भारत का व्यापार शेष :- निम्न तालिका में वर्ष 2003-04 से भारत के व्यापार शेष की स्थिति दिखा ग है।
भारत का व्यापार शेष
वर्ष निर्यात आयात व्यापार शेष
2003-04 63.8 78.2 -14.3
2004-05 83.5(30.8) 111.5(42.7) -28.0
2005-06 103.1(23.4) 149.2(33.8) -46.1
2006-07 126.4(22.6) 185.8(24.5)-59.4
2007-08 111.0(21.6) 168.8(25.9) -57.8
2008-09 168.7(51.9) 287.8(70.8) -119.1

अप्रैल दिसंबर कोष्ठक के आंकड़े पूर्व वर्ष की तुलना में प्रतिशत वृद्धि को दर्शाते है।

अदृश्य शेष 

अदृश्य मदों में पोत परिवहन, बैंकिंग, बीमा, परामर्श, सेवाएं, विदेशी पर्यटन, निवेश आय, हस्तांतरण, भुगतान आदि शामिल किये जाते है। भारत में अदृश्य शेष की स्थिति को निम्न तालिका में दिखा ग है।
भारत मे अदृश्य शेष की स्थिति करोड रूपये में
वर्ष से अदृश्य मदों प्राप्तियॉं लिए अदृश्य मदों के भुगतान अदृश्य मदों से निवल प्राप्तियॉं
1980-81 5669 1580 4311
1989-90 12484 11459 1025
1990-91 13394 13829 -435
1991-92 23449 19191 4258
1992-93 23901 22564 1337
1993-94 30262 26413 3849

तालिका  से स्पष्ट है कि भारत अदृश्य शेष की स्थिति व्यापार शेष की स्थिति से अच्छी है। वर्ष 1990-91 को छोड़कर अन्य सभी वर्षों में अदृश्य मदों से प्राप्तियॉं इनके लिए किये भुगतानों से अधिक है अर्थात् 1990-91 को छोड़कर अन्य सभी वर्षों में अदृश्य शेष में अधिशेष की स्थिति रही है।

Comments