उत्तर वैदिक काल का सामाजिक जीवन एवं धार्मिक जीवन

By Bandey No comments
अनुक्रम

उत्तर वैदिक काल का सामाजिक जीवन

उत्तर वैदिक काल में साहित्य से तात्कालीन सामाजिक दशा पर
व्यापक प्रकाश पड़ता है । उत्तर वैदिक काल में ब्राम्हण, क्षत्रिय, वैश्य और शूद्र में समाज का चार सही-विभाजन शुरू
हुआ । गोत्र और आश्रम की नई संकल्पनाएं पनपीं । पितृसत्तात्मक परिवार चलते रहे । लेकिन
महिलाओं की स्थिति में गिरावट आई । उत्तर वैदिक काल में वेशभूषा, आहार और मनोरंजन के
रूपों में भी परिवर्तन देखा गया ।

  1. आश्रम व्यवस्था:- आर्यो ने जीवन की व्यवस्थित कर दिया । इन लोगो ने जीवन को  चार
    वर्गो में बांटा, ब्रम्हचर्य, गृहस्थ, वानप्रस्थ और सन्यास ।
  2. पारिवारिक जीवन:- उत्तर वैदिक कालीन समाज भी पितृ प्रधान था तथा संयुक्त परिवार की
    प्रथा थी । परिवार के सभी सदस्य परिवार के मुखिया पुरूष का आदर करते थे ।
  3. स्त्रियों की दशा:- उत्तर वैदिक काल के आते जाते स्त्रियों के सम्मान कम हो गया । वे
    सम्पति की उत्तराधिकारी नहीं थी । इस समय स्त्रियों को भोग की वस्तु समझा जाता था । इस
    समय विदुषी महिला गार्गी एवं मैथेयी थी ।
  4. भोजन:- उत्तर वैि दक काल मे वैि दक काल की तरह ही भोजन किया जाता था । विशेष
    अवसर पर मांस विशेष उत्सवों एवं त्यौहारों पर अवश्य रखा जाता था ।
  5. वेशभूषा:- उत्तर वैदिक कालीन लोगों की वेशभूषा में वैदिक काल की तरह रहा, ऊनी
    वस्त्रों का प्रयोग होने लगा ।
  6. मनोरंजन:- विभिन्न अवसरों पर जुआ खेलन,े रथ की दौड़ और घुड दाडै का आयोजन
    होता था । नाचने गाने और बजाने का शौक सभी लोग करते थे । उत्तर वैदिक काल में शततन्तु
    सौ तार वाला बाजा होता था ।
  7. शिक्षा:- उत्तर वैदिक काल में शिक्षा का प्रमुख विषय वदे था । वेदो  के अध्ययन के साथ
    साथ विज्ञान, गणित, भाषा तथा युद्ध कला आदि की भी शिक्षा दी जाती थी । छात्र गुरू के निकट
    बैठकर कठोर व सादा जीवन व्यतीत करते हुये ज्ञानार्जन करते थे जिसे ‘उपनिषद’ कहा जाता
    था ।

 उत्तर वैदिक काल का आर्थिक जीवन 

उत्तर वैदिक कालीन लोगो की आर्थिक जीवन इस प्रकार है-

  1. कृषि:- उत्तर वैि दक कालीन लोगों का प्रमुख व्यवसाय कृषि था । ऋग्वैि दक काल की
    तुलना में उत्तर वैदिक काल में कृषि की अत्यन्त उन्नति हुई । खेती के तरीको में परिवर्तन किया
    गया । हल का प्रयोग किया जाता था जिसे 20 से 30 बैलो में बांधकर हल चलाया जाता था ।
    इस समय की प्रमुख फसल गेहूॅं, चावल व जौ थी ।
  2. पशुपालन:- इसके अतिरिक्त पशुपालन की परम्परा अधिक हो गई थी । हमें ऐसे प्रसंग
    मिलते हैं, जिनमें चरागाहों का विशेष ध्यान रखा जाता था ताकि जानवरों को किसी प्रकार की कोई
    कठिनाई न हो । जानवरों के लिए पशुशालाएॅं बनाई जाती थी । यह पशुओं की जंगली जानवरों
    से रक्षा के लिए तथा उन्हें सर्दी, गर्मी, शरद ऋतु से बचाने के लिए बनाई जाती थी, इस काल में
    गाय पूजा यौग्य बन गई थी । गऊ की मान्यता दूध तथा दूसरी वस्तुओं के प्रयोग के लिये
    अधिक हो गयी थी । अथर्ववेद के अनुसार उस व्यक्ति को मृत्यु-दण्ड दिया जाता था जो गाय
    का वध करता था ।
  3. उद्योग एवं व्यवसाय:- उत्तर वैदिक काल तक कृषि एवं पशुपालन के अतिरिक्त अनेक
    व्यवसायों की उत्पत्ति हो चुकी थी । लोहे की खोज और मुख्य व्यवसाय के रूप में खेती करना, उत्तर वैदिक काल के महत्वपूर्ण
    पहलू थे । अनेक नई कलाएं और शिल्प पूर्ण कालिक व्यवसायों के रूप में अपनाये गये । आन्तरिक
    और बाह्य दोनों प्रकार का व्यापार फला-फूला । उत्तर वैदिक काल में उत्तरी गंगा घाटी ने नगर
    जीवन की शुरूआत देखी ।

उत्तर वैदिक काल का धार्मिक जीवन

उत्तर वैदिक काल में धर्म और जटिल बन गया । अनेक नये दवेताओं
ने आरम्भिक प्राकृतिक शक्तियों का स्थान ले लिया । पुजारी वर्ग द्वारा अधिकृत बलि का पहलू
महत्वपूर्ण हो गया । लेकिन उत्तर वैदिक काल के अन्तिम चरण में उपनिषदों ने बलि की सत्ता को
चुनौती देना आरम्भ कर दिया ।

  1. यज्ञ:- उत्तर वैदिक काल के आते- आते धर्म जटिल तो हो गया था लोग अब अपनी
    इच्छाओं को पूर्ण करने के लिये मन्त्रों का जाप करना प्रारम्भ किया । यज्ञ खर्चीले होने लगे और
    यज्ञों में बलि का महत्व भी बढ़ने लगा । यज्ञों में पुरोहितो की संख्या भी बढ़ गयी थी ।
  2. ब्राह्मणों  का महत्व बढ़ा:- यज्ञ, हवन, अनुष्ठान, मन्त्राचार होने लगे तब समाज में
    ब्राम्हणों का महत्व बढ़ने लगा । ब्राम्हण ग्रंथों की रचना इसी काल में की गयी एवं ब्राम्हणों को वेद
    ज्ञान का अधिकारी माना जाने लगा ।
  3. देवताओं के स्थान मेंं परिवर्र्तन:-वैदिक काल में इन्द्र प्रधान देवता थे परन्तु उत्तर वैदिक
    काल के आते आते इसका स्थान विष्णु, पशपतिनाथ शिव ने ले लिया । इनकी पूजा अब शिव के
    रूप में की जाने लगी ।
  4. दर्शन:- कर्मकाण्ड की जटिलता अधिक हो गयी । यज्ञ का विपरीत प्रभाव हुआ । ब्राम्हण
    कर्म कान्ड में रूचि लेते थे जिसके कारण दूसरे लोग उपासित होने लगे । इस समाज के लोगों
    ने आध्यात्मिक चिन्तन किया जिसका वर्णन उपनिषद में मिलता है ।

 उत्तर वैदिक काल का राजनीतिक जीवन

उत्तर वैदिक कालीन साहित्य में इस समय की राजनीतिक स्थिति
का पता चलता है ।

  1. राजतंत्रों का उदय:- इस समय राजतंत्रों का उदय हुआ जो अत्यन्त शक्तिशाली थे ।
    साम्राज्यवादी शक्तियों का अभ्युदय हुआ । ऐतरेण ब्राम्हण में साम्राज्य, भौज्य, स्वराज्य पारमेष्ठ
    राज्य महाराज्य आधिपत्य, सार्वभौम आदि राज्यों का उल्लेख है ।
  2. राजा:- राजा का पद उत्तर वैदिक काल में पैतृक था वह प्रजा की रक्षा करता था । अब
    राजा ज्यादा शक्तिशाली हो गया । उत्तर वैदिक काल में विशाल साम्राज्यों के उदय के कारण
    राजाओं की शक्ति में भी वृद्धि हुई । उत्तर वैदिक काल में राज्याभिषेक होने लगा ।
  3. सभा एवं सभापति:- ऋग्वैदि काल में जो सम्मान सभा एव समिति का था वह उत्तर
    वैदिक काल में आते आते कम हो गया ।
  4. न्याय व्यवस्था:- न्याय व्यवस्था का सर्वोच्च अधिकारी राजा होता था, तथा सहायता के
    लिये अन्य अधिकारी होते थे । उत्तर वैदिक काल में ग्राम्यवादिन नायक अधिकारी न्याय करता
    था।

3 Comments

Ganu

Feb 2, 2020, 6:46 am Reply

Very helpful article about information of Marathas..

Sonu jatt

Feb 2, 2020, 5:44 pm Reply

Super material 👌🏻

Subhash chouhan

Nov 11, 2019, 8:35 am Reply

S chouhan

Leave a Reply