समाजमिति विधि क्या है?

अनुक्रम
समाजमिति तकनीक का प्रयोजन समूह में व्यक्ति विशेष के सामाजिक सम्बन्धों का अध्ययन करना है। इसके द्वारा विशेषकर से एकाकी और उपेक्षितों तथा अस्वीकृत व्यक्तियों की व्यक्तित्व सम्बन्धी समस्याओं का पता लगाने के लिए किया जाता है। व्यक्तियेां के सामाजिक व्यवहार का आकलन करने हेतु यह तकनीक सूचना प्राप्त करने का एक उपयोग माध्यम है। इस तकनीक में यह प्रयास किया जाता है कि समूह के सदस्यों में, उनसे यह पूछकर कि वे विभिन्न स्थितियों में किसे चुनेंगे या नहीं चुनेंगे। इस तकनीक का प्रयोग विभिन्न शिक्षण स्थितियों में, सामाजिक समायोजन, सामूहिक गतिकी, अनुशासन तथा अन्य सामाजिक सम्बन्धों की समस्याओं के अध्ययन में प्रयोग किया जाता है। समूहों के अन्दर सामाजिक सम्बन्धों के मापन के लिए भिन्न-भिन्न प्रकार की तकनीकों का प्रयोग किया जाता है। शिक्षा के क्षेत्र में निम्नलिखित तकनीकों का प्रयोग मुख्य रूप से किया जाता है।

समाजमिति तकनीक की प्रविधियाँ

  1. सोशियोग्राम (Sociogram)
  2. सामाजिक माप मैट्रिक्स (Sociometric Matrices )
  3. समाजमितीय सूचकांक (Sociometric Index)
  4. गेस-हू-टेकनीक (Guess who Technic )
  5. सामाजिक दूरी स्केल (Social Distance Scale )
1. सोशियोग्राम (Sociogram) - सोशियोग्राम में समूह के सदस्यों द्वारा एक-दूसरें के प्रति किये गये पसन्दों केा एक आलेख या सादे कागज पर चित्र बनाकर दिखाया जाता है। शोधकर्ता ऐसे प्रश्नों से आरम्भ करता है जैसे ‘‘प्रत्येक सदस्य से यह पूछा जाता है कि आप किसके साथ कार्य करना सर्वाधिक पसन्द करेंगें ? अपनी पहली, दूसरी तथा तीसरी पसन्द बताइए।’’ यदि समूह में लड़के तथा लड़कियॉ दोनो हैं तो लड़कों का चिन्ह ‘त्रिकोण’ (∆) और लड़कियों का ‘वृत्त’ (0) हो सकता है। पसन्द का एक दिशा सूचक तीर से प्रदर्शित कर सकते हें और आपसी चयन को दोनों दिशाओं की ओर इंगित करते हुए तीर (↔ ) से प्रदर्शित किया जा सकता है। जो सदस्य सबसे अधिक लोगों के द्वारा चुने जाते हैं उन्हें ‘तारा’(Stars) कहा जाता है। जो सदस्य दूसरे के द्वारा नहीं चुने जाते हैं उन्हें ‘आइसोलेट्स’ कहा जाता है। समूह के सदस्यों द्वारा एक-दूसरे को चुनकर बनाए गये छोटे समूह केा ‘क्लिक’ कहा जाता है। सोशियोग्राम के निर्माण में दूसरे चरण में तालिका बनायी जाती है। तालिका में छात्र का नाम तथा उसकी क्रम संख्या लिखी जाती है । पहले तीन कालमों में विद्याथ्र्ाी की अपनी पसन्द /चयन क्रम भरी जाती है। अगले तीन कालमों में प्रत्येक छात्र दूसरों द्वारा जितनी बार चुना गया तथा अन्तिम कालम में कुल चयनों का योग दर्शाया है।

सोशियोग्राम

आंकड़ा पत्र पर पहला छात्र अनिल कुमार है। उसने ‘छात्र की चयन’ कालम में छात्र संख्या पहले चयन में 3 लिखा, पहला चयन ललित कुमार, दूसरी पसन्द आशीष तथा तीसरी पसन्द अखिलेश है। ‘कितनी बार चुना गया’ कालम में अनिल कुमार एक छात्र द्वारा दूसरी चयन में चुना गया और पहली व तीसरी चयन में किसी भी विद्याथी ने उसे नहीं चुना। अन्य विद्यार्थियों द्वारा वह केवल एक बार चुना गया और उसे ‘कुल चयन’ के कालम में दिखाया गया।

कुल चयन कालम में स्पष्ट है कि ‘सतीष’ तथा ‘ललित कुमार’ के क्रमश: 5 बार तथा 4 बार चुना गया। यह विद्यार्थी ‘स्टार्स’ कहे जाते हैं। ‘अखिलेश’ को किसी अन्य विद्यार्थी द्वारा नही चुना गया। ऐसे विद्याथ्र्ाी को ‘आइसोलेट’ कहा जाएगा। अनिल कुमार, कुलदीप कुमार, सुरेश, आशीष कम बार चुने गये इन्हें उपेक्षित (नेगेलक्टीज) कहेंगे।

सोशियोग्राम समूह के सम्बन्धों का आकृति चित्र प्रस्तुत किया जाता है। इसके निर्माण में निम्न प्रक्रिया अपनायी जाती है।
  1. ‘स्टार्स’ के नाम सोशियोग्राम के मध्य में रखा जाता है। लड़को के चिन्ह त्रिकोण में तथा लड़कियों को वृत्त में रखा जाता है।
  2. ‘आइसोलेट्स’ जिन्हें बहुत कम चुना गया, उन्हें सोशियोग्राम के बाहरी क्षेत्र में रखिए।
  3. ज्यादा अंक प्राप्त करने वालेां को ‘स्टार्स’ के पास रखा जाता है।
  4. पूरी रेखा से पहले चयन को तथा खण्डित रेखा दूसरे चयन केा तथा बिन्दु -डैश चिन्ह तीसरे चयन को दर्शाते हैं।
Tag: ,
Share:

Comments

  1. Please iska aakriti chitra bnakar btaye

    ReplyDelete
  2. Please iska aakriti chitra bnakar btaye

    ReplyDelete
  3. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  4. Sir iska full types ka details dijiye na .ye to sirf sociogram h.baki 4 types

    ReplyDelete

Post a Comment