मोल सिद्धांत क्या है?

अनुक्रम

परमाणु द्रव्यमान इकाई (Atomic mass unit or amu)-

तत्वों के परमाणु द्रव्यमान ज्ञात करने के लिए आजकल कार्बन (जिसका परमाणु-द्रव्यमान 12 होता है) परमाणु के द्रव्यमान के 12 वे भाग को इकाई मान लिया गया है। इसे परमाणु-द्रव्यमान इकाई कहते है।

परमाणु द्रव्यमान इकाई के अनुसार परमाणु द्रव्यमान की परिभाषा इस प्रकार दी जाती है-

किसी तत्व का परमाणु द्रव्यमान एक संख्या है जो बताती है कि उस तत्व के एक परमाणु का द्रव्यमान कार्बन (परमाणु द्रव्यमान =12) के एक परमाणु के द्रव्यमान के 12 वें भाग से कितना गुना भारी है।
परमाणु - द्रव्यमान इकाई का मान
हम जानते हैं कि-

6-022X1023 कार्बन (12c) परमाणुओं का द्रव्यमान 12 ग्राम होता है,
  . . 1 कार्बन परमाणु का द्रव्यमान =12/6.022 X 1023 ग्राम

अत: एक परमाणु द्रव्यमान इकाई (उन = 12/6.022 X 1023 X 1/12
= 1.6603 x 10-24 ग्राम

ग्राम परमाणु या ग्राम परमाणु -द्रव्यमान (Gram atom or gram atomic mass) -

किसी तत्व के परमाणु द्रव्यमान को ग्राम में व्यक्त करने पर ग्राम परमाणु प्राप्त होता है ।
उदाहरण के लिए ऑक्सीजन का परमाणु द्रव्यमान 15.9994 है। अत: 15.9994 ग्राम ऑक्सीजन 1 ग्राम परमाणु होगा।

ग्राम परमाणु या ग्राम परमाणु -द्रव्यमान

तत्व का 1 ग्राम परमाणु = ग्राम में व्यक्त तत्व का परमाणु - द्रव्यमान = 6.022×1023 परमाणुओं का द्रव्यमान
इस आधार पर
1 ग्राम परमाणु हाइड्रोजन = 1.008 ग्राम हाइड्रोजन 
1 ग्राम परमाणु सोडियम = 22.9898 ग्राम सोडियम

आणविक द्रव्यमान Molecular mass 

परमाणु द्रव्यमान इकाई (amu) में व्यक्त किसी पदार्थ के एक अणु के माट को उसका आणविक द्रव्यमान (molecular mass) कहते है। आणविक द्रव्यमान की परिभाषा इस प्रकार दी जाती हैं।

किसी पदार्थ का आणविक द्रव्यमान एक संख्या है जो बताती है कि उस पदार्थ का एक अणु कार्बन (परमाणु द्रव्यमान =12 ) के एक परमाणु के द्रव्यमान के 12 वें भाग से कितना गुना भारी है।
अत: पदार्थ का आणविक द्रव्यमान

आणविक द्रव्यमान


किसी अणु का द्रव्यमान उस अणु में उपस्थित परमाणुओं के द्रव्यमानो के योगफल के बराबर होता है।

यदि पदार्थ का अणुसूत्र (molecular formula) ज्ञात हो तो उस अणु में उपस्थित परमाणुओं की संख्या और तत्वो के परमाणु - द्रव्यमानों की सहायता से आणविक द्रव्यमान की गणना की जा सकती है।
उदाहरण
(i) जल (H2O) का आणविक द्रव्यमान
     = (2×H का परमाणु द्रव्यमान) +(1×0 का प.द्र.)
     = (2×1.008) + 15.9994 =(2.016 + 15.9994
     = 18.0154 amu
(ii) कैल्सियम कार्बोनेट (CaCO3 ) का आणविक द्रव्यमान
     = Ca का प- द्र- + C का प- द्र- + (3×0 का प- द्र-)
     = 40.08 + 12.01115 + 3×15.9994
     = 40.08 + 12.01115 + 47.9982
     = 100.08935amu

ग्राम अणु या ग्राम आणविका द्रव्यमान Gram Molecular or Gram molecular mass 

ग्राम आणविक द्रव्यमान gram molecular weight - आणविक द्रव्यमान को ग्राम में व्यक्त करने पर वह ग्राम आणविक द्रव्यमान कहलाता है।
अत: एक मोल सल्फयूरिक अम्ल (H2SO4) = 98 ग्राम
अत:
ग्राम अणु या ग्राम आणविका द्रव्यमान

आयनी यौगिको के मोलर द्रव्यमान 

आयनी यौगिकों का मोलर द्रव्यमान उसके 6.022× 1023 सूत्र इकाइयों का द्रव्यमान होता है इसे पदार्थ के इकार्इ सूत्र में उपस्थित आयनों के मोलर द्रव्यमानों का योग करके भी निकाला जा सकता है, ज्ञ2ैव्4 के लिए इसका परिकलन इस प्रकार होगा।
K2SO4 का मोलर द्रव्यमान = (2×K+ का मोलर द्रव्यमान) (SO2- 4का मोलर द्रव्यमान)

= (2×ज्ञ़का मोलर द्रव्यमान)
    (S का मोलर द्रव्यमान  4 × 0 का मोलर द्रव्यमान)

= [(2×39.1) + (32.1 + 4 × 16 ] g mol-1]

= (78.2 + 32.1 + 64) g mol-1 = 174.3 g mol-1)

ग्राम आणविक आयतन Gram Molecular Volume 

सा. ता. दा. (STP) पर किसी गैस के एक मोल का आयतन 22.4 लीटर होता है और इस गैस में 6.022 × 1023 अणु रहते हैं इस आयतन को ग्राम आणविक आयतन कहते है। उदाहरण के लिए सा. ता. दा. पर 22.4 लीटर ऑक्सीजन का भार 32.00 ग्राम होता है तथा इसमें 6.022× 1023 अणु रहते हैं।

मोल Mole -

हम एक प्रकार की 12 वस्तुओ के समूह को 1 दर्जन (dozen) कहते हैं जैसे 1- दर्जन पुस्तक से तात्पर्य 12 पुस्तकों से तथा 1 दर्जन आम से 12 आमों से हैं। इसी प्रकर परमाणुओं, अणुओं तथा आयनों आदि की संख्या को गिनने के लिए रसायनज्ञ जिस इकाई का उपयोग करते हैं, उसे मोल कहते हैं। 1 मोल 6.02×1023 कणों का समूह है।
अत: 1 मोल = 6.02×1023अणु परमाणु या आयन
आयनिक यौगिकों के लिए-
1 मोल Bacl2 = 137.34़2 × 35.45 =208.24 ग्राम

= (= 1 मोल Ba+ आयन +2 मोल CI- आयन

= [(2×39.1) + (32.1 + 4 × 16 ] g mol-1]

= (78.2 + 32.1 + 64) g mol-1 = 174.3 g mol-1)

Comments