अमीर खुसरो का जीवन परिचय और रचनाएँ

अनुक्रम
अमीर खुसरो खड़ी बोली हिंदी के आदि कवि थे। अमीर खुसरो का जन्म 1255 ई. से 1324 ई. के बीच है। 2016 ई. में प्रदीप खुसरो द्वारा लिखित पुस्तक ‘अमीर खुसरो’ के अनुसार यह अवधि 1253 ई. से 1325 ई. तक है।  अमीर खुसरो के पिता का नाम अमीर सैफुद्दीन महमूद था। मीर सैफुद्दीन महमूद तुर्किस्तान में लाचीन कबीले के सरदार थे। अमीर सैफुद्दीन उत्तर प्रदेश के एटा जिले में गंगा किनारे पटियाली नामक गाँव में बस गए। सैफुद्दीन के तीसरे बेटे का नाम था- अबुल हसन यमीनुद्दीन मुहम्मद। यही अबुल हसन अमीर खुसरो नाम से प्रसिद्ध हुए।

अमीर खुसरो का वास्तविक नाम अबुल हसन यमीनुद्दीन मुहम्मद था। अमीर खुसरो के पिता ने उनका नाम रखा। लेकिन उनका खुसरो मशहूर हुआ और वे अमीर खुसरो नाम से ही प्रसिद्ध हो गए।

उनकी माँ माया देवी उर्फ दौलत नाज़ या सय्यदा मुबारक बेगम राजस्थान के एक संपन्न हिंदू राजपूत परिवार से थी। पिता का नाम था- अमीर एमादुल्मुल्क रावत अजऱ्। सुलतान बलबन के युद्ध मंत्री एमादुल्मुल्क राजनीतिक दबाव के कारण नए-नए मुसलमान बने थे। इस्लाम ग्रहण करने के बावजूद उनके घर में हिंदू रीति-रिवाजों का संजीदगी से पालन होता था। उनके घर में गाने-बजाने का माहौल था। 

तात्पर्य यह है कि खुसरो के दिलो-दिमाग पर नाना के घराने और पिता के घराने का समन्वित प्रभाव पड़ा। अमीर खुसरो जब नौ वर्ष के थे तभी उनके पिता की मृत्यु हो गई। पिता की मौत के बाद नाना ने अमीर खुसरो की शिक्षा का उत्तरदायित्व निभाया। 

अमीर खुसरो की रचनाएँ

अमीर खुसरो की रचनाएँ इस प्रकार है- 
  1. मसनवी किरानुस्सादैन
  2. मसनवी मतलउअनवार
  3. मसनवी शोरों व खुसरू
  4. मसनवी लैला मजनूँ
  5. मसनवी आइना-ए-सिकंदरी
  6. मसनवी हश्त्बहिश्त
  7. मसनवी अस्पनामा
  8. मसनवी खिज्रनामा या खिज्र खाँ देवल रानी या इश्किया
  9. मसनवी नुह सिपहर
  10. मसनवी तुगलकनामा
  11. खजायनुल्फुतुह या तारीखे अलाई
  12. इंशाएखुसरू या ख्यालाते खुसरू
  13. रसायलुएजाज या एजाजे खुसरवी
  14. अफजालुल्फबाएद
  15. राह्तुल्मुजी
  16. खालिकबारी
  17. जवाहिरुल्बहृ
  18. मुकाल
  19. किस्सा चहार दरवेश
  20. दीवान तुहफुतुस्सग्र
  21. दीवानवस्तुल्हयात
  22. दीवान गर्र्तुलकमाल
  23. दीवानवकीय नकीय’

अमीर ख़ुसरो की हिंदी कविता

अमीर खुसरो की हिंदी रचनाएँ हैं : 
  1. खालिकबारी या निसाब.ए.ज़रीफी या मंजूम-ए-खुसरो- यह हिंदी फारसी शब्दकोश है। 
  2. दीवान.ए.हिंदवी या कलाम-ए-हिंदवी- इसमें पहेलियाँ, ढकोसले संकलित है। 
  3. तराना.ए.हिंदवी या कलाम.ए.हिंदवी- इसमें पहेलियों, ढकोसलों, निस्बतों, दो सुखनों, मुखम्मस, सावन, बरखा, शादी आदि गीतों, ग़ज़लों, कव्वाली है।  
  4. लुआली.ए.उमान या जवाहर-ए-खुसरवी- खुसरो की कविताओं का संकलन है।

अमीर खुसरो की पहेलियाँ 

अमीर खुसरो की पहेलियाँ के कुछ उदाहरण प्रस्तुत हैं :-

एक नार वह दाँत दँतीली। पतली दुबली छैल छबीली।।
जब बा तिरियहि लागै भूख। सूखे हरे चबावे रूख।।
जो बताय वाही बलिहारी। खुसरो कहे वरे को आरी।।
- आरी (बूझ पहेली)
 
एक थाल मोतियों से भरा, सबके सिर पर औंधा धरा।
चारो ओर वह थाली फिरे, मोती वासे एक ना गिरे।।
- आसमान (मोती.तारे,बिन बूझ पहेली)

Comments