नृजातीय समूह किसे कहते है?

नृजातीय समूह किसे कहते है (What is an ethnic group called)?

नृजातीयता किसी व्यक्ति या समहू के नृजातीय समूह की अपनेपन की भावना है। एक व्यक्ति या समूह, वे विभिन्न सांस्कृतिक लक्षणों के कारण स्वयं को/खुद को एक विशेष जातीय समूह से कैसे संबंधित करते हैं, इसे नृजातीयता कहा जाता है। 

एक नृजातीय समूह को उसके वश्ं के संदर्भ में सबसे अच्छा समझा जाता है, यानी समूह के सदस्य अपने आप को किसी विशेष पौराणिक चरित्र या मिथक से कैसे संबंधित करते हैं, इसकी उत्पत्ति कैसे हुई? इस प्रकार सदस्यों के बीच यह एक आम धारणा है कि वे एक विशेष पौराणिक चरित्र या इसी तरह के मूल के वंशज हैं। जैसे, सामूहिकता के संदर्भ में नृजातीय समूह को सबसे अच्छा समझा जाता है . समूह का सदस्य होना। सामूहिकता रक्त सबंध, भाषा, संस्कृति, नातेदारी सबंध, धर्म आदि के संबंधों से हो सकती है। 

हचिंसन और स्मिथ एक नृजातीय समूह की छह विशिष्ट विशेषताओं पर विचार करते हैं:
  1. समुदाय का ‘‘लक्षण’’ पहचानने और व्यक्त करने के लिए एक सामान्य उचित नाम;
  2. सामान्य वंश का एक मिथक जिसमें समय और स्थान पर सामान्य उत्पत्ति का विचार शामिल है और जो एक नृजातीय को काल्पनिक नातेदारी की भावना देता है;
  3. ऐतिहासिक यादों को साझा किया, या बेहतर, एक सामान्य अतीत या अतीत की यादों को साझा किया, जिसमें नायक, घटनाएं और उनकी स्मरणात्े सव शामिल है;ं
  4. सामान्य संस्कृति के एक या अधिक तत्व, जिन्हें निर्दिष्ट करने की आवश्यकता नहीं है, लेकिन सामान्य रूप से धर्म, रीति.रिवाज और भाषा शामिल हैं;
  5. मातृभूमि के साथ एक कड़ी, जरूरी नहीं कि उसका भौतिक व्यवसाय और पैतृक भूमि, जैसा कि प्रवासी लोगों और 
  6. नृजातीय आबादी के कम से कम कुछ वगोर्ं की ओर से एकजुटता की भावना 

नृजातीयता की उत्पत्ति (Origin of ethnicity)

नृजातीयता की उत्पत्ति और पुनरुत्थान अंतर समूह संपर्क में निहित है, जब विभिन्न समूह एक दूसरे के प्रभाव क्षेत्र में आते हैं बेशक, जो आकार लते ा है वह उस समाज की स्थितियों पर निर्भर करता है। दूसरा बिंदु यह है कि नृजातीयता का उपयोग उत्पीडित़ समूह के लिए अस्तित्व की वर्तमान मांग को पूरा करने के लिए किया जाता हैं जब अधीनस्थ समूह को दूसरों के प्रभुत्व को सहन करना मुश्किल हो जाता है और अपनी स्थिति को सुधारने के लिए प्रयास करना पड़ता है, तो नृजातीयता उत्पन्न होती है।

नृजातीय समूह की विशेषताएं (Characteristics of an ethnic group)

शास्त्रीय नृविज्ञानियों ने एक नृजातीय समूह की कुछ विशेषताएं दी हैं, जैसा कि नीचे दिया गया है:
  1. यह काफी हद तक जैविक रूप से आत्म स्थायी है।
  2. मौलिक सांस्कृतिक मूल्यों को साझा करता है, जो सांस्कृतिक रूपों में प्रत्यक्ष एकता से उत्पन्न होता है।
  3. यह संचार और अन्त:क्रिया का एक क्षेत्र बनाता हैं
  4. इसकी एक सदस्यता है जो खुद को पहचानती है, और दूसरों द्वारा पहचानी जाती है, एक ही क्रम के अन्य श्रेणियों से अलग एक निरंतर श्रेणी के रूप में।
नृजातीयता का विश्लेषण करने के लिए विचार के तीन संप्रदाय हैं। ये हैं :
  1. विचार का आदिमवादी संप्रदाय
  2. उपकरणवादी संप्रदाय, और
  3. विचार का स्थितिजन्य आदिमवादी संप्रदाय

Comments