ख्याल गायन शैली क्या है?

ख्याल गायन शैली आधुनिक समय की एक लोकप्रिय गायन शैली है। ख्याल शब्द फारसी भाषा का शब्द है। इसका अर्थ है विचार या ‘कल्पना’। कुछ विद्वान ख्याल का अर्थ स्वेच्छाचार भी मानते हैं अत: हम कह सकते हैं कि राग के नियमों का पालन करते हुए अपनी कल्पना या इच्छा के अनुसार, विविध प्रकार से राग के स्वरूप का वर्णन तथा विस्तार करना ही ख्याल है।

यह गीत शैली कब आरम्भ हुई इसके विषय में कई मत प्राप्त होते हैं- एक मत के अनुसार ख्याल का आविष्कार अमीर खुसरो ने किया था, परन्तु उस समय के ग्रंथों को देखने से ज्ञात होता है कि उस समय कव्वाली आदि तो प्रचार में थे परन्तु ख्याल का तो कही नाम भी नहीं मिलता है। कुछ इसे प्राचीन काल से ही मानते हैं। उनके अनुसार पहले रस गायन शैली का नाम कुछ और था। विद्वानों के अनुसार मध्यकाल में प्रचलित रूपक नामक प्रबंध से ही ख्याल का विकास हुआ।

कुछ विद्वान साधारणी ‘गीति’ से ही ख्याल का जन्म मानते हैं। इस साधारणी गीति में अन्य चार गीतियों (गौड़ी, बेसरा, भिन्न, शुद्ध) का मिश्रण था। विद्वानों का तो एक समूह नियामत खाँ को ख्याल का आविष्कारक मानता है। मतभेद चाहे जितने भी हो पर आधुनिक काल में यह शैली सबसे प्रमुख गायन शैली बन चुकी है।

मध्ययुग में ध्रुपद गायन शैली के साथ-साथ ख्याल गायकी का प्रचार भी होने लगा था। नियामत खाँ ने इस गायन शैली को आगे बढ़ाया। धीरे-धीरे ध्रुपद का प्रचार-प्रसार कम होने लगा तथा ख्याल गायन शैली की लोकप्रियता बढ़ने लगी।

ख्याल गायन शैली की काव्य की भाषा हिन्दी, उर्दू या अन्य भाषा होती है। ख्याल गायकी में पहले थोड़ा सा राग वायक आलाप किया जाता है। आलाप के बाद बड़ा ख्याल गाया जाता है। यह विलम्बित लय में होता है तथा इसे अधिकता तीन ताल, एक ताल, आदि में गाया जाता है। इसके बाद छोटा ख्याल गाया जाता है। इसकी लय द्रुत होती है। ख्याल गायकी में राग के लक्षणों के अतिरिक्त, कण, मीड, गमक आदि का प्रयोग गायक अपनी इच्छा के अनुसार करता है, काव्य लय, स्वर आदि के संयोग से ख्याल गायकी आधुनिक काल की प्रसिद्ध शैली है। ख्याल गायन की संगत तबले पर की जाती है।

Bandey

मैं एक सामाजिक कार्यकर्ता चित्रकूट, भारत से ब्लॉगर हूं। मैंने अपनी पुस्तकों के साथ बहुत समय बिताता हूँ। इससे https://www.scotbuzz.org और ब्लॉग की गुणवत्ता में वृद्धि होती है।

Post a Comment

Previous Post Next Post