लेखन कौशल का विकास

रचना भावों एवं विचारों की कलात्मक अभिव्यक्ति है- लेखन। वह शब्दों को क्रम से लिपिबद्ध सुव्यवस्थित करने की कला है। भावों एवं विचारों की यह कलात्मक अभिव्यक्ति जब लिखित रूप में होती है तब उसे लेखन अथवा लिखित रचना कहते है। अभिव्यक्ति की दृष्टि से लेखन तथा वाचन परस्पर पूर्वक होते है। वाचन से लेखन कठिन होता है। लेखन में वर्तनी का विशेष महत्व है। जबकि वाचन में उच्चारण का महत्व होता है। उच्चारण की शुद्धता आवश्यक तत्व है और लेखन में अक्षरों का सुडौल होना और वर्तनी की शुद्धता होनी चाहिए।

लेखन की कला स्थायी साहित्य का अंग है। लेखन की विषयवस्तु साहित्य का क्षेत्र होता है और वाक्य लिखित भाषा अभिव्यक्ति का माध्यम होता है। लेखन में सोचने तथा चिंतन के लिए अधिक समय मिलता है। जबकि वाचन में भावाभिव्यक्ति का सतत प्रवाह बना रहता है सोचने का समय नहीं रहता। मानव जीवन में लेखन तथा वाचन दोनों रूपों का महत्व है।

लेखन की अशुद्धियाॅं पाठकों तथा जालोचकों की दृष्टियों से बच नहीं सकती है जबकि वाचन में इतना ध्यान नहीं जाता है, इस कारण लेखन में भाषा की शुद्धता का विशेष ध्यान देना पड़ता है। पाठ्य सामग्री, विषय सामग्री, भाषा व शैली के परिष्कार पर विशेष ध्यान देना पडता है। लेखन में भाषा शैली विषय सामग्री आदि सभी दृष्टि से शुद्ध होनी चाहिए।

लेखन के माध्यम से साहित्य की विधाओं एवं शैली का निर्माण तथा विकास किया जाता है। साहित्य में स्थायीपन लेखन से आता है। लेखन से अभिव्यक्ति के अनेक रूप है। कहानी, नाटक, निबन्ध कथाये, आत्मकथा, संवाद, संस्मरण, जीवनी, कविता, गद्यगीत काव्य आदि। छात्रों को शिक्षण से इन विद्याओं एवं रूपों से अवगत कराया जाता है। वाचन में भावात्मक पक्ष की प्रधानता होती है। जो लेखन द्वारा संभव नहीं हो पाती है। स्वर के उतार-चढ़ाव से शब्दों में शक्ति आदि है। उससे प्रोत्साहन भी दिया जाता है।

लेखन के तत्व

भाषा का मूल रूप मौखिक होता है। और मौखिक भाषा की इकाई वाक्य, वाक्य की इकाई शब्द और शब्द की इकाई अक्षर होते है। प्रत्येक भाषा के अक्षरों को चिन्ह विशेषों से प्रकट किया जाता है। इन चिन्ह विशेषो को उस भाषा की लिपि कहते है। लिखने की दृष्टि से लिपि का ज्ञान होना प्रथम आवश्यकता है। दूसरे स्तर पर शब्द ज्ञान और तीसरे स्तर पर सर्वमान्य वाक्य रचना का ज्ञान होना चाहिए। ये तीनों ही लिखित भाषा के मूल तत्व है। लिखित भाषा की शिक्षा का अर्थ है, इन तीनों मूल तत्वों की शिक्षा। लेखक अक्षरों के लिए प्रयुक्त शुद्ध लिपि चिन्हों को लिखे, शब्दों को उनके शुद्ध रूप में लिखे और व्याकरण सम्मत वाक्य लिख्शे, यह आवश्यक होता है। लेकिन कुछ और तत्व भी है जो लिखित भाषा के प्रभाव को बढाते है। उनमें विचारों की सुसम्बद्धता, विषयानुकूल भाषा- शैली, लोकोक्तियों एवं मुहावरों का उपयोग और स्पष्ट एवं सुन्दर लेखव मुख्य है।

लेखन कौशल का विकास

अपने भावों तथा विचारों को लिखित भाषा के माध्यम से अभिव्यक्त करने की क्रिया में निपुण करना। और इसके लिए आवश्यक है कि उनमें लेखन के आवश्यक तत्वों का विकास किया जाए। यह कार्य एक-दो दिन माह अािवा वर्षों में पूरा नहीं किया जा सकता, इसके लिए तो सतत् प्रयास की आवश्यकता होती है।

किसी भी कौशल के विकास के लिए सबसे अधिक आवश्यकता अभ्यास की होती है। हम बच्चों को लिखने के जितने अधिक अवसर देंगे वे लेखन कौशल में उतने ही अधिक निपुण तथा दक्ष होंगे। लेखन कौशल का विकास एक सत्त क्रिया है। इसको हमें कई सोपनों में पूरा करना होता है। शिक्षा के विभिन्न स्तरों पर भिन्न भिन्न कार्य करने होते है।

Bandey

मैं एक सामाजिक कार्यकर्ता (MSW Passout 2014 MGCGVV University) चित्रकूट, भारत से ब्लॉगर हूं।

Post a Comment

Previous Post Next Post