व्यंजन किसे कहते हैं? व्यंजन के प्रकार कितने होते हैं?

वे अक्षर जिनके उच्चारण में ध्वनि से अनुस्फुटित होकर मुख विवर के उच्चारण स्थानों को स्पर्श करती हुई निकलती है, वे व्यंजन कहलाते हैं जैसे क, ख, ग आदि। प्रत्येक व्यंजन का उच्चराण स्वर की मदद से किया जाता है। जैसे- क् + अ क व्यंजन की संख्या 33 होती हैं।
क ख ग घ ङ कवर्ग
च छ ज झ ञ चवर्ग
ह ठ ड ढ ण तवर्ग
त थ द ध न तवर्ग
प फ ब भ म पवर्ग
य र ल व वर्गहीन अन्तस्थ
श ष स ह वर्ग हीन उष्म

व्यंजन के प्रकार

1.उच्चारण स्थान के आधार पर-

  1. ओष्ठ्य- जिन व्यंजनों का उच्चारण दोनों ओष्ठों से उच्चरित होता है। जीभ की सहायता नहीं ली जाती है। जैसे प, फ, ब, भ, म,
  2. दन्त्य- जब जीभ की नोेंक ऊपर वाली दंत पंक्ति को स्पर्ष करती है। जैसे त, थ, द, ध, ताल, धान, दवाज।
  3. दन्तोष्ठ्म- इसके उच्चारण में दन्त ओर ओष्ठ के क्षणिक संपर्क से हवा बाहर निकल आती है इसलिए इसे दन्तोष्ठ्म ध्वनि कहा जाता है, यथा व, वीणावादिनी।
  4. वत्स्र्य - जब जीभ मसूड़ों का स्पर्श करती है जैसे-न, र, ल, स, ज, नम्रता, निनाद ।
  5. तालव्य- जब जिह्ना कठोर तालु से स्पर्श करती है- च, छ, ज, झ, ञ, य, श, ष। जैसे शब्द है-शीला, ऋषि, जहाज, छाया आदि।
  6. पूर्व तालव्य- जब जीभ मूर्धा तथा कठोर तालु की संधि को स्पर्श करती है-ट, ठ, ड, ढ, ण, ड, ढ़ ।
  7. कोमल तालव्य- जब जीभ तालु के सबसे पिछले भाग को छूती है क, ख, ग, घ, ङ । यथा कमला, खड़ा, घड़ी आदि।
  8. स्वरयंत्रीय- गले के अंदर स्वर यंत्र के मुख से उच्चारित होने वाली

2. श्वास के आधार पर-

  • अल्पप्राण- जिन व्यंजनों के उच्चारण में हवा की मात्रा कम निकले - क, ग, ङ, च, ज, ञ, ट, ड, ण, त, द, न, प, ब, म, (प्रत्येक वर्ग का पहला, तीसरा, और पाँचवा व्यंजन) य, र, ल, व, ड़।
  • महाप्राण- जब हवा की मात्रा अपेक्षाकृत अधिक निकले- ख, घ, छ, झ, ठ, ढ, थ, घ, फ, म (प्रत्येक वर्ग का दूसरा और चैथा व्यंजन) श, ष, स, ह, ढ़ ।

3. स्वर-तत्रियों के कंपन के आधार पर

  1. सघोष- जिन ध्वनियों के उच्चारण में स्वरयंत्र में स्वर- तत्रियों सें हवा टकराती हुई बाहर आती है, उन्हें सघोष ध्वनियाॅ कहते है-ग, घ, ङ, ज, झ, ञ, ड, ढ, ण, द, ध, न ब भ, म (प्रत्येक वर्ग का तीसरा, चैथा और पाँचवा व्यंजन ) यह ट, ल, व, ह, ङ, ढ़, ज।
  2. अघोष- जिन ध्वनियों के उच्चारण के समय स्वर-तंत्रियाँ दूर-दूर रहती है, क,ख,च,छ,ट,ठ,त,थ,प,फ,ष,ष,स
संदर्भ -
1. अनुराधा (2013), व्याकरण वाटिका, विकास पब्लिषिंग हाउस प्रा.लि. न्यू दिल्ली।
2. जीत, भाई योगेन्द्र (2008), हिन्दी भाषा षिक्षण, अग्रवाल पब्लिकेषन, आगरा।
3. लाल, रमन बिहारी लाल, हिन्दी शिक्षण, रस्तोगी पब्लिकेषन्स, मेरठ।
4. यादव, सियाराम (2016) पाठ्य क्रम एवं भाषा विनोद पुस्तक मन्दिर, आगरा।
5. कौशिक, जयनारायण (1990), हिन्दी शिक्षण, हरियाणा साहित्य अकादमी, चण्डीगढ़।

Bandey

मैं एक सामाजिक कार्यकर्ता (MSW Passout 2014 MGCGVV University) चित्रकूट, भारत से ब्लॉगर हूं।

Post a Comment

Previous Post Next Post