प्रतिभाशाली बालक की पहचान एवं विशेषताएं

प्रतिभाशाली बालक सामान्य बालकों से सभी बातों में श्रेष्ठ होता है। ये बालक उच्च बुद्धि-लब्धि वाले होते हैं और यह बुद्धि लब्धि 120 से ऊपर होती है। ये बालक एक साधारण बालक से बहुत अधिक योग्य होते है। जो कार्य इन्हें दिया जाता है, उसे शीघ्र ही पूरा कर लेते हैं। प्रतिभाशाली बालक सामान्य कार्यों को सफलता के साथ करते हैं और किसी एक विशेष क्षेत्र में सफलतापूर्वक कार्य करते हैं। 

क्रो एवं क्रो के अनुसार प्रतिभाशाली बालक दो प्रकार के होते है - 

1. सामान्य प्रतिभावाले बालक:- ये असाधारण होते हैं तथा उनकी बुद्धिलब्धि 120-130 से अधिक होती है। 

2. विशिष्ट प्रतिभावाले बालक:- इन बालकों में कला, गणित, संगीत, अभिनय, विज्ञान आदि में से किसी एक या अधिक विषय अर्थात क्षेत्र में विषय योग्यता होती है। इनकी यह योग्यता बहुत ही उच्च श्रेणी की होती है। 

प्रतिभाशाली बालक की पहचान एवं विशेषताएं

प्रतिभाशाली बालकों की पहचान निम्नलिखित विशेषताओं के आधार पर की जा सकती है - 
  1. इनका शारीरिक विकास तीव्र गीत से होता है।
  2. उत्तम शारीरिक गठन, जल्दी चलना व बोलना सीख जाते हैं। 
  3. ज्ञानेन्द्रिय विकास शीघ्र तथा किशोरावस्था के लक्षण शीघ्र उत्पन्न होने लगते हैं। 
  4. प्रभावशाली व्यक्तित्व तथा उत्तम समायोजन क्षमता। 
  5. उत्तम चरित्र तथा आत्मविश्वास। 
  6. निर्णय लेने की क्षमता तथा अधिक जिम्मेदार होते हैं। 
  7. मृदुभाषी, सहनशील, रचनात्मक प्रवृत्ति तथा सहयोग की भावना। 
  8. इनमें विश्लेषण, संश्लेषण, तर्क एवं स्मरण शक्ति की विशेष योग्यता होती है। 
  9. शीघ्र सीखना, समझना, उच्च बुद्धिलब्धि तथा कल्पना शक्ति उच्च होती है। 
  10. अमूर्त प्रत्ययों को समझने एवं चिन्तन की क्षमता होती है। 
  11. रूचियों में व्यापकता तथा विविधता होती है। 
  12. कम समय में अधिक सीखना या अधिगम करना। 
  13. नवीन ज्ञान को प्राप्त करने की तीव्र उत्सुकता का होना। 
  14. सामान्य ज्ञान बहुत अधिक होता है। 
  15. इनमें सामाजिकता का गुण अपेक्षाकृत कम होता है। 
  16. उम्र से उच्च वर्ग के बालकों के साथ बोलना और साथ रहना पसंद करते हैं। क्योंकि इनकी जिज्ञासाएँ उच्च होती हैं। 
  17. दूसरों का सम्मान करना। 
  18. अनुशासन में रहना पसंद करते हैं। 
  19. स्वभाव से विनम्र तथा आज्ञाकारी होते हैं। 
  20. समायोजन की क्षमता अच्छी होती है। 
  21. ये समूह से अलग रहना पसंद करते हैं अर्थात स्वभाव से एकाकी होते हैं। 
  22. ईष्यालु और स्वार्थपूर्ण व्यवहार करना। 
  23. जिद्दी स्वभाव तथा श्रेष्ठता की भावना होना।
  24. अति शीघ्रता से कार्य करना।

Bandey

मैं एक सामाजिक कार्यकर्ता (MSW Passout 2014 MGCGVV University) चित्रकूट, भारत से ब्लॉगर हूं।

Post a Comment

Previous Post Next Post