संचार व्यवस्था क्या है इसके दो प्रमुख अवयव ?

संचार व्यवस्था विचारों, सूचनाओं  और अभिवृत्तियो को एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति या एक स्थान से दूसरे स्थान तक पहुंचाने के माध्यमों को संचार व्यवस्था कहा जाता है । टेलीफ़ोन, टेलीग्राफ टेलीप्रिन्टर, फैक्स, रेडियो¨, टेलीविजन आदि सभी साधन जन संचार माध्यम के अन्तर्गत आते है । 

यहां हम प्रमुख जन संचार माध्यमों की चर्चा करेंगे निम्नलिखित है - 

समाचार पत्र - समाचार पत्र जन संचार का सबसे पुराना माध्यम है । पिछली शताब्दी में साक्षरता के प्रसार के कारण प्रत्येक देश में समाचार पत्र की संख्या में आश्चर्यजनक वृद्धि हुई है । आज समाचार पत्र पढ़ना एक शिक्षित व्यक्ति की प्रातःकालीन दिनचर्या का आवश्यक हिस्सा बन गया है । भारत की राष्ट्रीय चेतना के उदय में समाचार पत्र की महत्वपूर्ण भूमिका रही । वर्तमान में भारत में लगभग 1600 समाचार पत्र प्रकाशित होते हैं जिनमें कुछ दैनिक, प्रातःकालीन सांध्यकालीन है तथा कुछ साप्ताहिक है । समाचार पत्र का अन्तर्राष्ट्रीय, राष्ट्रीय क्षेत्र अत्यंत व्यापक है ।  

रेडियो - जन संचार का एक प्रमुख माध्यम रेडियो¨ भी है । ध्वनि कार्यक्रम पर आधारित यह माध्यम केवल संचार ही नहीं वरन मनोंरंजन का भी महत्वपूर्ण साधन बन गया है । इसके दूसरे रूप ट्रांजिस्टर के बाद  रेडियो घर की चार दीवारी लांघकर सर्वत्र व्याप्त हो गया । 1980 के दशक में एक अनुमान के आधार पर विश्व में लगभग एक अरब रेडियो थे। 

सिनेमा  - सिनेमा भी जनसंचार का प्रमुख साधन है । सिनेमा का विकास 19 वीं शताब्दी के अन्त में हो चुका था । 20 वीं शताब्दी के दूसरे दशक में सिनेमा विशाल जनसमुदाय के मनोरंजन का प्रमुख साधन बन गया । संयुक्त राज्य अमेरिका में डी. डब्लूय, ग्रिफिथ द्वारा निर्मित मूक फिल्म बर्थ ऑफ ए नेशन प्रथम पूर्ण फिल्म थी । इसके बाद अमेरिका का हालीवुड नगर फिल्म निर्माण के क्षेत्र में विश्व प्रमुख नगर बन गया । 1926 में चलचित्र में ध्वनि डाली गई । भारत में पहली फीचर फिल्म 1912 में सवाक फिल्म 1931 में बनी । सिनेमा का आरम्भ सामूहिक मनोरंजन के लिये हुआ था, किन्तु कालान्तर में यह विशिष्ट कला बन गई । 

दूरदर्शन  - दूरदर्शन आधुनिक युग में संचार का सशक्त माध्यम है । इसका आविष्कार 1925 में इंग्लैंड के. जे.एल. बेयर्ड ने किया था । 1930 के दशक में बहुत छोटे पैमाने पर टेलीविजन सेवाएं आरम्भ हुई, किन्तु द्वितीय विश्व युद्ध के बाद टेलीविजन संचार का सर्वाधिक शक्तिशाली माध्यम बन गया । भारत में सर्वप्रथम 1959 में दूरदर्शन का प्रसारण किया गया । इसके पश्चात इसकी गति धीमी रही। किन्तु 1982 में भारत में आयोजित एशियाई खेलों के समय में इसका तीव्र गति से विस्तार हुआ। 

कम्प्यूटर - कम्प्यूटर 20 वी. शताब्दी की सर्वोत्तम देन है । कम्प्यूटर के आविष्कार का श्रेय फ्रांस के वैज्ञानिक ब्ल्¨स पासकल को  दिया जा सकता है । जिसने 1962 में जोड़ बाकी के लिए एक गणना यंत्र बनाया । जिसके पश्चात अमेरिकी विज्ञानिक डॉ. हरमन हालरिक ने काडर्¨ं में छेद करके गणना पद्धति का आविष्कार किया कालान्तर में यही पद्धति कम्प्यूटर के रूप में विकसित हुई जिसे आज मानव मस्तिष्क का दर्जा मिल चुका है । 

Bandey

मैं एक सामाजिक कार्यकर्ता (MSW Passout 2014 MGCGVV University) चित्रकूट, भारत से ब्लॉगर हूं।

Post a Comment

Previous Post Next Post