डाटाबेस और डाटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम (DBMS) क्या है ?

कम्प्यूटर में स्टोरेज डाटा ग्रुप को डाटाबेस कहते हैं। जिस कम्प्यूटर प्रोग्राम के द्वारा कम्प्यूटर में डाटाबेस का स्टोरेज और प्रबंधन (Management) करते हैं उसे डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम (Database Management System) कहते हैं। डीबीरएमएस के द्वारा डाटा का अधिक से अधिक उपयोग सम्भव है। DBMS एक साॅफ्टवेयर है जिसके अनुप्रयोग से डाटा विश्लेषण (Data Analysis) की सुविधा मिलती है। उपयोगकर्ताओं के दृष्टिकोण से DBMS के तीन  तत्व 1) डाटा डैफिनेशनल लैंग्वेज 2) डाटा मैनीप्यूलेशन लैंग्वेज और 3) यूटिलिटीज एण्ड एन्सीलरी साॅफ्टवेयर होते हैं। DBMS का अनुप्रयोग बहुत लाभकारी है, लेकिन इसमें कुछ कमियाँ भी हैं। Oracle, MySQL, Microsoft Access  डाटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम (Database Management System) के उदाहरण हैं।

डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम क्या है

आवश्यकतानुसार के आधार पर डाटा का स्टोरेज किया जाता है। इस डाटा के संग्रह को डाटाबेस कहते हैं।डाटाबेस में कई अभिलेखों से संबंधित डाटा स्टोर किये जाते हैं। इस प्रकार सभी अभिलेखों से संबंधित डाटा एक स्थान पर स्टोर, व्यवस्थित और सुरक्षित रहते हैं। भविष्य में होने वाले संबंधित विकासों के डाटा को भी इन में जोड़कर आद्यतन अभिलेख तैयार किये जाते हैं और उनकी सहभागिता भी की जा सकती है। इस डाटा संग्रह के मैनेजमेंट के लिए कम्प्यूटर प्रोग्राम होते हैं जिन्हें डाटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम कहते हैं।

डाटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम को संक्षिप्त मे DBMS से संबोधित करते हैं। यह एक साॅफ्टवेयर है जिसके उपयोग द्वारा डाटा का व्यवस्थित प्रबंधन किया जाता है ताकि डाटा का अधिक से अधिक उपयोग संभव हो सके। DBMS की सहायता से डाटाबेस के निर्माण सुरक्षा और अपडेट रखने की सुविधा मिलती है। यह डाटा का संग्रह तथा उन डाटा को बिना रुकावट या कठिनाई के उपलब्ध करवाने वाला एक कम्प्यूटर प्रोग्राम है। डाटा के संग्रह को डाटाबेस और डाटाबेस को व्यवस्थित रखने वाले साॅफ्टवेयर को DBMS कहते हैं।  यह अनेक बहुत बड़ा डाटाबेस को व्यवस्थित प्रबंधन करने में समर्थ है।  यह डाटाबेस की सूचना को इकट्ठा और पुनः प्राप्त करने का सरल और प्रभावशाली प्रकार है। DBMS से सूचना सुरक्षित रहती है। यह उपयोग करने वालों की आवश्यकताओं को पूरा करने में सहायक है। इसकी सहायता से नये डाटाबेस का सृजन भी होता है। डी.बी.एम.एस. एक साॅफ्टवेयर है जिससे डाटा विश्लेषण की सुविधा प्राप्त होती है।

डाटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम (DBMS) की परिभाषा

कम्प्यूटर में डाटाबेस का Storage and Management करने वाले कम्प्यूटर प्रोग्राम को डाटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम (DBMS) कहते हैं।

किसी डाटा का Computerized Storage डाटाबेस कहलाता है और डाटाबेस के Systematic management के लिये Applied साॅफ्टवेयर को डाटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम कहते हैं।

सूचना Recovery की उलझन को दूर कर डाटाबेस से मनचाहा डाटा प्राप्त करने के लिये अनुप्रयोग में लाये जाने वाला साॅफ्टवेयर डाटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम कहलाता है।

डाटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम एक साॅफ्टवेयर है जो डाटाबेस को परिभाषित कर उपयोग करने वाले को प्राप्त करने के लिए एक पुल के रूप में कार्य करता है।

डाटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम (DBMS) के उद्देश्य

इसके प्रमुख उद्देश्य हैं -
  1. डाटा स्टोरेज की सुविधा प्रदान करना।
  2. डाटाबेस और उपयोग करने वाले के बीच पल का काम करना।
  3. डाटा की   को रोकना।
  4. Authorized User को easy access प्रदान करना।
  5. User की मांग के के अनुसार डाटा को फास्ट Fast access करना।
  6. User की आवश्यकतानुसार डाटा स्टोरेज में जोड़-तोड़ करना।
  7. डाटा को सुरक्षित रखना।
  8. सिस्टम के बिगड़ जाने पर डाटा की Recovery करना।

डाटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम (DBMS) की कमियाँ

फाईल मैनेजमेंट सिस्टम की कमियों को दूर करने के उद्देश्य से डी.बी.एम.एस का उपयोग किया जाने लगा है किन्तु इसमें भी कुछ कमियाँ है -
  1. User को कई सुविधायें प्रदान करने के उद्देश्य से (DBMS) एक कठिन साॅफ्टवेयर बन गया है। इसका अधिक से अधिक लाभ प्राप्त करने के लिए Database experts, managers and users को इसका deep knowledge होना आवश्यक है।
  2. डी.बी.एम.एस. एक सामान्य उद्देश्य के लिए बना साॅफ्टवेयर है यह पूरे सिस्टम हेतु बनाया जाता है। यदि इसका उपयोग किसी विशिष्ट काम के लिये किया जाये तो यह बेहतर परिणाम नहीं देता।
  3. User को अनेक सुविधाएँ प्रदान करने की जटिलता के कारण यह साॅफ्टवेयर डिस्क का अधिक स्थान घेरता है।
  4. विश्व भर से User इसका उपयोग करते हैं। यदि सिस्टम खराब हो जाता है तो सभी User प्रभावित होते है।
  5. इस साॅफ्टवेयर को खरीदना और विकसित करना अत्यन्त खर्चीला कार्य है। 

लोकप्रिय डाटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम

 इसके कुछ प्रमुख उदाहरण है -
  1. ओरेकल (Oracle) - इसको ओरेकल कार्पोरेशन द्वारा निर्माण किया गया है।
  2. डी बेस (DBASE) - यह माईक्रो कम्प्यूटर के लिये बनाया गया पहला डी.बी.एम. एस. है।
  3. एसक्यूल (Structured Query Language) - इसको SQL भी कहते है।
  4. माई एसक्यूल (My SQL) - यह सबसे ज्यादा उपयोग किया जाने वाला डी.बी.एम.एस. है।
  5. माईक्रोसाॅफ्ट एक्सेस (Microsoft Access) -इसको माईक्रोसाॅफ्ट द्वारा निर्माण किया गया है।

Bandey

मैं एक सामाजिक कार्यकर्ता (MSW Passout 2014 MGCGVV University) चित्रकूट, भारत से ब्लॉगर हूं।

Post a Comment

Previous Post Next Post