अरुणा आसफ अली का जीवन परिचय

अरूणा आसफअली का जन्म 1909 में एक बंगाली परिवार में हुआ था। अरूणा हिन्दू थी उन्होंने आसफअली से 1928 में विवाह किया। 1930 में जब सविनय अवज्ञा आन्दोलन आरंभ हुआ तो उनके पति गिरफ्तार किये गये, तब अरूणा ने भी आन्दोलन में भाग लिया और उन्हें गिरफ्तार करके लाहौर जेल भेज दिया गया। 1932 में वे पुनः गिरफ्तार की गई। 200 रू. जुर्माने के तौर पर उन्हें देने थे। अरूणा ने जेल अधिकारियों के दुव्र्यवहार के विरोध में भूख हड़ताल की। इसके बाद उन्होंने 10 वर्षो तक सामाजिक गतिविधियों में समय बिताया ।

सत्याग्रह में भाग लेने के कारण जब उन्हें लाहौर जेल भेजा गया तब उन्होनंे जेल में स्त्री सत्याग्रहियों में जाग्रति उत्पन्न की । भारत छोड़ो आन्दोलन को क्रियान्वित करने के लिये अरूणा ने अपनी जान पर खेलकर तिरंगा फहराया और तत्पष्चात वे भूमिगत हो गई । इस स्थिति में भी वे क्रांति में सक्रिय रही। 25 जनवरी 1946 को उनकी गिरफ्तारी का वारंट कर दिया गया। आजादी के बाद 1947 में वे दिल्ली प्रदेश की कांग्रेस कमेटी की अध्यक्षा बनी ।

1950 में उन्होंने बामपंथी समाजवादी दल बनाया। 1955 में ये दल भारतीय कम्युनिटी पार्टी मे मिल गया। 1958 में वे दिल्ली की पहली मेयर निर्वाचित हुई। 29 जुलाई 1996 को उनका स्वर्गवास हो गया।

Bandey

मैं एक सामाजिक कार्यकर्ता (MSW Passout 2014 MGCGVV University) चित्रकूट, भारत से ब्लॉगर हूं।

Post a Comment

Previous Post Next Post