उत्पादन लागत, मौद्रिक लागत, अवसर लागत क्या है?

उत्पादन लागत क्या है?

उत्पादन लागत क्या है? प्रत्येक फर्म किसी वस्तु का उत्पादन करने के लिए उत्पादन के साधनों का प्रयोग करती है। उत्पादन के साधनों का प्रयोग करने के लिए जो रकम खर्च करनी पड़ती है उसे उत्पादन लागत कहते हैं। उत्पादन लागत मुख्य रूप से उत्पादन की मात्रा पर निर्भर करती है।

मौद्रिक लागत क्या है?

किसी वस्तु का उत्पादन तथा बिक्री करने के लिए मुद्रा के रूप में जो धन खर्च करना पड़ता है उसे उस वस्तु की मौद्रिक लागत कहते हैं।

Example : 500 दर्जन कापियों का उत्पादन करने की लागत 2000 रुपए है तो इन दो हजार रुपयों को 500 कापियों की मौद्रिक लागत कहा जाएगा। अर्थशास्त्राी लागत या मौद्रिक ताकत में निम्नलिखित खर्च को शामिल करते हैं।
  1. कच्चे माल की कीमत 
  2. ब्याज 
  3. लगान 
  4. मजदूरी 
  5. बिजली या चालक शक्ति का खर्च
  6. घिसावट 
  7. विज्ञापन का खर्च 
  8. बीमा 
  9. पैकिंग 
  10. ट्रांसपोर्ट पर किए जाने वाला खर्च 
  11. सामान्य लाभ

अवसर लागत क्या है?

जब किसी एक वस्तु के उत्पादन में साधनों का प्रयोग किया जाता है तो अन्य वस्तुओं की उन मात्राओं का त्याग करना पड़ता है जिनके उत्पादन में ये साधन सहायक होते हैं। मान लीजिए, एक किसान एक खेत पर गेहूं तथा चना दोनों फसलें पैदा कर सकता है। यदि 1 हेक्टेयर के खेत पर वह केवल गेहूं उत्पन्न करता है तो उसे चने का त्याग करना पड़ेगा। यदि चने की मात्रा की कीमत एक हजार रुपए है तो गेहूं की अवसर लागत 1,000 रुपए होगी।

फर्गुसन के अनुसार, ‘‘वस्तु की इकाई उत्पन्न करने की अवसर लागत वस्तु की वह मात्रा है जिसका त्याग करना पड़ेगा ताकि साधनों का प्रयोग वस्तु के स्थान पर ग् वस्तु का उत्पादन करने के लिए किया जा सके।’’ अवसर लागत में स्पष्ट लागतें तथा निहित लागतें शामिल होती हैं।
  1. स्पष्ट लागतें (Explicit Costs) : एक फर्म द्वारा किए जाने वाले वे सभी खर्चे जिनका भुगतान दूसरों को किया जाता है, स्पष्ट लागतें कहलाती हैं। फर्म के द्वारा दी जाने वाली मजदूरी, कच्चे व अर्धनिर्मित माल के भुगतान, ऋणों पर दिया जाने वाला, ब्याज व घिसावट पर किए जाने वाले भुगतान आदि स्पष्ट लागतें कहलाती हैं।
  2. निहित लागतें (Implicit Costs) : एक उद्यमी के अपने स्वयं के साधन की लागत को निहित लागतें कहा जाता है। एक उद्यमी की अपनी पूंजी पर ब्याज, भूमि का लगान, श्रम की मजदूरी तथा उद्यमी के कार्य के लिए मिलने वाले सामान्य लाभ निहित लागतों में शामिल होते हैं।

Bandey

मैं एक सामाजिक कार्यकर्ता (MSW Passout 2014 MGCGVV University) चित्रकूट, भारत से ब्लॉगर हूं।

1 Comments

Previous Post Next Post