अंकुरित अनाज खाने के फायदे और नुकसान

अंकुरित अनाज खाने के फायदे


अंकुरित अनाज में विटामिन ‘ए’, विटामिन ‘सी’, विटामिन बी1, विटामिन बी5 और विटामिन ‘के’ पाया जाता है। इसके साथ ही इसमें आयरन, पोटेशियम, कैल्शियम, मैग्नीशियम, फाॅस्पफोरस और मैंगनीज भी पर्याप्त मात्रा में मौजूद होता है। यही नहीं इसमें फाइबर, फोलेट, ओमेगा-3 फैटी एसिड भी पाया जाता है, जो हमारे हृदय के लिए बहुत ही लाभदायक होता है। अंकुरित अनाज से पोषक तत्वों, खासतौर से विटामिन ‘सी’, बी-काॅम्प्लेक्स, फोलिक एसिड, थायमिन, राइबोफ्रलेविन व नायसिन की मात्रा दोगुनी होती है। इसके साथ ही शरीर में विटामिन ‘ए’ के निर्माण में सहायक केरोटीन की मात्रा में भी वृद्धि होती है।

अंकुरित अनाज अथवा अंकुरित बीज को अंग्रेजी में स्प्राउट्स कहते हैं। यह पोषक तत्वों से भरपूर होता है। इसमें पर्याप्त मात्रा में प्रोटीन तथा अन्य आवश्यक पोषक तत्व पाये जाते हैं। ये हमारी सेहत के लिए बहुत ही फायदेमंद होते हैं। अंकुरित अनाज रक्त शुद्धिकरण करने में अपना प्रमुख योगदान देते हैं और ये कई तरह के रोगों से बचाते हैं। इसको नियमित आहार में भी लिया जा सकता है। अंकुरित दानों का सेवन दिन में कभी भी किया जा सकता है, लेकिन सुबह नाश्ते के समय करना बहुत ही लाभदायक होता है। प्राकृतिक चिकित्सा में इसको दवाओं के रूप में भी जाना जाता है।

अंकुरित अनाज बनाने की विधि

स्प्राउट्स सबसे सस्ता और अच्छा आहार होता है। इसको बनाने के लिए चना, मूंग, मोठ, गेहूं, सोयाबीन, मूंगफली, राजमा, मक्का और तिल इत्यादि को पानी में धोएं और किसी गीले कपड़े में इसे अच्छी तरह से लपेटकर पूरी रात के लिए पानी में भीगने दें। अगली सुबह इन्हें पानी से बाहर निकालकर रखें। यदि कपड़े की नमी कम हो तो इसमें समय-समय पर पानी का छिड़काव भी करते रहना चाहिए। एक दिन बाद गीले किये गये अनाज अंकुरित हो जाते हैं। इस तरह से हम प्रतिदिन अंकुरित अनाज तैयार कर सकते हैं और यह घर में ही आसानी से बनाया जा सकता है।

अंकुरित अनाज खाने के फायदे

1. अंकुरित अनाज का प्रतिदिन सेवन करने से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ जाती है। यह शरीर के हानिकारक तत्वों को बाहर निकालने में भी लाभदायक है। इसके सेवन से अम्लता और अतिअम्लता के बीच संतुलन बनाए रखने में मदद मिलती है।

2. अंकुरित अनाज में प्रोटीन अधिक मात्रा में पाया जाता है। इसमें 35 प्रतिशत तक प्रोटीन हो सकता है। जिन लोगों के शरीर में प्रोटीन की कमी है, उनको अंकुरित अनाज जरूर खाना चाहिए। इसमें कई एंजाइम भी पाए जाते हैं, जो शरीर की फिटनेस बढ़ाते हैं और हमें सेहतमंद रखते हैं। ताजा अंकुरित अनाज पके हुए अंकुरित अनाज से ज्यादा बेहतर होते हैं, क्योंकि अंकुरित को पकाने पर उसके कुछ एंजाइम खत्म हो जाते हैं।

3. अंकुरित अनाज में फाइबर भरपूर मात्रा में होने के साथ ही पर्याप्त एंजाइम, प्रोटीन, सूक्ष्म पोषक तत्व होते हैं। इन्हें खाने के बाद हमारा पेट काफी देर तक भरा रहता है। ऐसे में हम अतिरिक्त कैलोरी लेने से बच जाते हैं और मोटापा भी नहीं बढ़ता है।

अंकुरित अनाज खाने के फायदे

4. अंकुरित अनाज खाने के बाद आसानी से पच जाता है, क्योंकि इसमें बड़ी मात्रा में एंजाइम पाए जाते हैं। जिन लोगों के पाचन तंत्रा में समस्या है उनके लिए अंकुरित चीजें काफी फायदेमंद हैं। अंकुरित होने के बाद अनाज में पाए जाने वाले कार्बोहाइड्रेट व प्रोटीन अधिक पाचक व पौष्टिक हो जाते हैं। पाचन क्रिया को बेहतर बनाने में बहुत ही लाभदायक होते हैं।

5. हमारे हृदय का स्वस्थ रहना बहुत जरूरी है। अगर यह स्वस्थ रहता है तो हमारा संपूर्ण शरीर भी स्वस्थ बना रहता है। अंकुरित अनाज ओमेगा-3 फैटी एसिड का बड़ा स्रोत होता है। इसका सेवन हमारे हृदय के लिए बहुत ही फायदेमंद होता है। ओमेगा-3 फैटी एसिड हमारे शरीर के कार्डियोवस्कुलर अर्थात हृदय के स्वास्थ्य के लिए बहुत ही लाभदायक होता है। यह हमारे संपूर्ण शरीर के पोषण के लिए भी लाभदायक है। यह रक्त में कोलेस्ट्राॅल को कम करने में भी मदद करता है। कुछ अध्ययनों से पता चला है कि अंकुरित आहार लेने से शरीर में अच्छे कोलेस्ट्राॅल एचडीएल को बढ़ाया जा सकता है। इसके साथ ही खराब एलडीएल कोलेस्ट्राॅल के स्तर को कम किया जा सकता है। अंकुरित अनाज, उच्च पोटेशियम के गुणों से भरा होता है, जो बीपी और हार्ट अटैक जैसे खतरों को काफी हद तक दूर रखा जा सकता है।

6. हमारे शरीर में आयरन की कमी होना, एनीमिया या खून की कमी को जन्म देता है। यह हमारे शरीर के लिए बहुत ही गंभीर स्थिति हो सकती है। रक्त की कमी से हमें शारीरिक और मानसिक थकान की अनुभूति होती है। आयरन की कमी से निजात पाने के लिए हमें नियमित रूप से अंकुरित अनाज का सेवन करना चाहिए। अंकुरित आहार उन सुपर फूड में से एक है, जो एनीमिया को रोक सकता है।

7. नवजात शिशु की मानसिक दुर्बलताओं को दूर करने के लिए महिलाओं के लिए गर्भावस्था के दौरान अंकुरित अनाज का सेवन करना बहुत ही लाभदायक होता है। इसमें फोलेट की मात्रा कम होती है, जिसके कारण तंत्रिका ट्यूब दोषों से बचा जा सकता है। गर्भवती महिलाओं के लिए अंकुरित अनाज बहुत अच्छे होते हैं। ये महिलाओं के अच्छे स्वास्थ्य के साथ-साथ भ्रूण में पल रहे बच्चे को पर्याप्त पोषक तत्व उपलब्ध करवाते हैं और जिससे उसके शारीरिक विकास में मदद मिलती है। इस तरह से गर्भवती महिलाएं अंकुरित अनाज का सेवन कर लाभ प्राप्त कर सकती हैं।

8. त्वचा पर दिखाई देने वाले बढ़ती उम्र के निशान को भी अंकुरित अनाज के सेवन से रोका जा सकता है। इसमें विटामिन ‘बी’ की अच्छी मात्रा होती है, जो अतिरिक्त सीबम के उत्पादन को रोकता है और स्वस्थ त्वचा के विकास में मदद करता है। इसे रोज खाने से त्वचा पर झुर्रियां जल्दी नहीं आतीं और त्वचा चमकदार और सुंदर बनी रहती है।

9. आंखों के लिए अंकुरित अनाज बहुत ही लाभदायक होता है। इसमें विटामिन ‘ए’ की भरपूर मात्रा मौजूद रहती है। विटामिन ‘ए’ हमारी आंखों के लिए बहुत ही फायदेमंद होता है। नियमित रूप से अंकुरित अनाजों का सेवन किया जाए तो यह रतौंधी की समस्या को दूर कर हमारी देखने की क्षमता को बढ़ा सकता है। इसके साथ ही विटामिन ‘ए’ मस्तिष्क स्वास्थ्य के लिए भी बहुत ही महत्वपूर्ण होता है। यदि बुजुर्ग व्यक्तियों द्वारा अंकुरित अनाजों का सेवन किया जाता है तो यह मोतियाबिंद की आशंका को कम करता है। इसलिए हमारे आंखों को स्वस्थ और तेज दृष्टि बनाने के लिए इसका सेवन करना फायदेमंद होता है।

10. इसका सेवन हमारे पाचन को अच्छा रखता है, जिसका प्रभाव हमारी त्वचा और बालों पर भी देखने को मिलता है। पाचन तंत्र अच्छा होने के साथ उचित विटामिन, मिनरल्स और प्रोटीन के सेवन से त्वचा और बालों की सेहत अच्छी रहती है। इसलिए अंकुरित अनाज का सेवन करना चाहिए। इससे हमारे बाल घने होंगे और बाल झड़ना भी कम हो जायेगा। अंकुरित अनाज के माध्यम से विभिन्न प्रकार के खनिज का सेवन होता है, जो बालों एवं त्वचा को खूबसूरत और चमकीला बनाता है। 

अंकुरित अनाज खाने के फायदे

अंकुरित अनाज के अन्य फायदे

इसको शरीर के लिए अमृत माना जाता है। इसके प्रतिदिन उपयोग से शरीर स्वस्थ और लंबे समय तक युवा रहता है। यह हमें ऊर्जावान बनाए रखने में मदद करता है। रक्त को साफ करने में अंकुरित अनाज बहुत ही फायदेमंद होता है। यह एक प्राकृतिक आहार है। यदि आपको भूख नहीं लगने की समस्या है तो अंकुरित अनाज खाकर इस समस्या से निजात पाया जा सकता है।

अंकुरित अनाज का सेवन करना बहुत ही फायदेमंद होता है, लेकिन चिकित्सक की सलाह अनुसार सेवन करना ज्यादा उचित होगा।

अंकुरित अनाज के नुकसान

अंकुरित अनाज हमारे लिए बहुत ही फायदेमंद होता है, लेकिन अधिक मात्रा में सेवन करने पर इसके कुछ नुकसान भी हो सकते हैं। कुछ जानकारों का मानना है कि इसका सेवन करने से विषाक्तता पैदा हो सकती है, जिसका अर्थ यह है कि अंकुरित अनाज सभी प्रकार के बैक्टीरिया, विषाक्त पदार्थों और अन्य हानिकारक रसायनों को आपके शरीर तक पहुंचा सकते हैं। अंकुरित अनाज से आमतौर पर दो प्रकार के जीवाणु ई-कोलाई और साल्मोनेला के फैलने की आशंका होती है। ई-कोलाई बैक्टीरिया पेट की ऐंठन और दस्त आदि समस्याओं का कारण होता है। यह नवजात शिशुओं के स्वास्थ्य को भी प्रभावित कर सकता है, जिससे गुर्दे की हानि, रक्तस्राव, एनीमिया आदि लक्षण हो सकते हैं। गर्भावस्था के समय अंकुरित अनाज सेवन से बचना चाहिए, क्योंकि इनमें बैक्टीरिया जल्दी वृद्धि कर सकते हैं। ये प्रेग्नेंसी में पेट की ऐंठन और दस्त जैसी समस्याओं को बढ़ा सकते हैं।

Bandey

मैं एक सामाजिक कार्यकर्ता (MSW Passout 2014 MGCGVV University) चित्रकूट, भारत से ब्लॉगर हूं।

Post a Comment

Previous Post Next Post