बायोटिन की प्राप्ति, कार्य, दैनिक आवश्यकता

बायोटिन (Biotin) यह जल तथा एल्कोहल में विलेय है। अम्लीय एवं क्षारीय माध्यमों में तथा ऊष्मा में स्थिर रहता है। 

बायोटिन की प्राप्ति

भोजन के प्रायः समस्त द्रव्यों में मिलता है। खमीर, फूलगोभी, मटर आदि वृक्क तथा अण्डे की जर्दी, यकृत में विशेष मिलता है। वृहदन्त्र में भी इसका निर्माण होता है। 

बायोटिन के कार्य

  1. यूरिया, पिरीमिडीन तथा वसा अम्लों के निर्माण में भाग लेता है।
  2. अनेक एमीनों अम्लों के एमीनीहरण में सहायक होता है। 
  3. कार्बनडाइआक्साइड के स्थानान्तरण में भाग लेने वाले एन्जाइमों की सहायता के लिए ‘को-एन्जाइम’ का कार्य करता है। 

बायोटिन की दैनिक आवश्यकता

100-300 म्यू0 ग्राम पर्याप्त होती है। विटेमिन बी कम्पलेक्स के लगभग सभी विटामिन चयापचय में को-एन्जाइमों का कार्य करते हैं।

Bandey

मैं एक सामाजिक कार्यकर्ता (MSW Passout 2014 MGCGVV University) चित्रकूट, भारत से ब्लॉगर हूं।

Post a Comment

Previous Post Next Post